Advertisements

सीवान में कोरोना के 4 नए पॉजिटिव मरीज, एक ही परिवार के। बिहार में अब 43 कोरोना के मरीज ।

आर्थिक पैकेज : प्रवासियों को 2 माह तक मिलेगा मुफ्त राशन, 83 फीसदी राशन कार्ड धारक ‘वन नेशन – वन राशनकार्ड’ के दायरे में

कोरोना वायरस की महामारी के चलते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा घोषित 20 लाख करोड़ रुपये के आर्थिक पैकेज को लेकर वित्त मंत्री...

Byomkesh Bakshi: Ep#1- Satyanveshi

IMPROVEMENTO.com - Boost Your Test Preparation. Watch Byomkesh Bakshi's first episode Satyanveshi which starts with Bakshi taking up his first case. Byomkesh Bakshi is a...

70 के दशक की इन अभिनेत्रियों की आंखें बहुत आकर्षित थीं, देखिए तस्वीरें।

70 के दशक की इरा बॉलीवुड की कुछ बहुत ही खूबसूरत अभिनेत्रियों की याद है।  हेमा मालिनी

ये है पाकिस्तान की सबसे खूबसूरत एक्ट्रेस, देखिए तस्वीरें।

पाकिस्तान फिल्म और टीवी उद्योग ने वर्षों से कई भव्य अभिनेत्रियों का निर्माण किया है। आइए नजर डालते हैं उन हीरोइनों पर,...

पटना में एक साथ मिले 8 कोरोना पॉजिटिव, बिहार का आंकड़ा पहुंचा 136

सिर्फ पटना में आज 8 पॉजिटिव केस मिले हैं।राजधानी में कोरोना पॉजिटिव केस अब नए इलाकों से सामने आ रहा है।अब तक...

बिहार के सीवान में कोरोना के 4 नए पॉजिटिव मरीज मिले है, जो एक ही परिवार के है। गुरुवार की सुबह स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव संजय कुमार ने ये जानकारी दी। उन्होंने बताया कि ये ओमान से आये एक संक्रमित से मिले थे।

बिहार में विदेश से और दूसरे प्रदेशों से आए लोगों की जांच एक बड़ी चुनौती है। यहां कोरोना संक्रमण की जांच की रफ्तार बेहद धीमी है। स्वास्थ्य विभाग के सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार 18 से 23 मार्च के बीच बिहार आये करीब 12 हजार व्यक्तियों को चिन्हित कर जांच की कार्रवाई शुरू की गई है। इसमें अबतक करीब तीन हजार व्यक्तियों की ही जांच की जा सकी है। इनमें कई लोगों के बिहार से बाहर दूसरे राज्यों में भी होने के कारण जांच में कठिनाई हो रही है, उनसे जुड़ी जानकारी संबंधित राज्यों को भी भेजी जा रही है।

Advertisements

कोरोना संदिग्धों की पहचान के लिए अब सर्दी-खांसी और बुखार की दवा के लिए देना होगा मोबाइल नंबर

अब सर्दी-खांसी और बुखार की दवाएं मेडिकल स्टोर पर आसानी से नहीं मिल पाएंगी। दवा लेने से पहले ग्राहकों को नाम-पता और मोबाइल नंबर के साथ पूरा ब्योरा देना होगा। कोरोना संक्रमित मरीजों की पड़ताल को लेकर यह नई व्यवस्था बनाई गई है। स्वास्थ्य विभाग के आदेश के बाद सिविल सर्जन ने पटना के सभी मेडिकल स्टोरों को आदेश जारी किया है। औषधि विभाग को निर्देश दिया गया है कि वह हर दिन दवा की दुकानों से पूरा डाटा इकट्ठा करें।

दवा खाकर बुखार दबाने की आशंका 
स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को आशंका है कि कोरोना के संदिग्ध मरीज बुखार और सर्दी खांसी की दवा लेने मेडिकल स्टोर पहुंच रहे हैं। वह लक्षणों को नजरअंदाज कर घर पर ही दवा खाकर पड़े हुए हैं। ऐसे में संक्रमण फैलने की आशंका है। बाहर से आने वालों को लेकर भी यही आंशका है। इसी आशंका को लेकर स्वास्थ्य विभाग ने ऐसा आदेश जारी किया है। इस आदेश के बाद अब ऐसे संदिग्ध मरीजों की खोजबीन आसान हो जाएगी।

औषधि निरीक्षकों का निरीक्षण 
औषधि निरीक्षक इस आदेश को लेकर निरीक्षण भी करेंगे और पूरा ब्योरा खंगालेंगे। पटना में 12 औषधि निरीक्षक हैं। हर किसी को अपने अपने क्षेत्र में सक्रिय रहने का निर्देश दिया गया है। किसी भी मामले में कोई दुकानदार मनमानी करता है तो उसके खिलाफ कार्रवाई करने का भी आदेश दिया गया है। सिविल सर्जन डॉ राज किशोर चौधरी का कहना है कि आदेश दिया गया है। इससे संदिग्ध मरीजों की जानकारी मिल जाएगी, जिससे संक्रमण को फैलने से रोका जा सकेगा। 

ऐसे बेचनी होंगी दवाएं 
स्वास्थ्य विभाग ने जो निर्देश जारी किया है, उसके अनुसार अब मेडिकल स्टोर पर ऐसी दवाएं बिना जानकारी लिए नहीं बेची जाएंगी, जो सर्दी-खांसी और बुखार की हों। सर्दी-खांसी और बुखार के लक्षण वाले मरीजों को दवा देने से पहले दवा दुकानदारों को  उनकी पूरी जानकारी इकट्ठा करनी होगी। हर दिन शाम को ये जानकारी औषधि निरीक्षकों से साझा करनी होगी। जिस व्यक्ति ने सर्दी-खांसी और बुखार की दवा एक साथ ली है, उसके बारे में पूरी जानकारी ली जाएगी। औषधि विभाग ऐसे लोगों के मिले मोबाइल नंबरों की पूरी जानकारी लेने के बाद उनसे बात करेगी। अगर कोई लक्षण मिल रहा है तो तत्काल उनकी जांच कराई जाएगी।

Advertisements

लोकप्रिय