Advertisements

बिहार में कोरोना संक्रमण का सबसे बड़ा जरिया बने प्रवासी

आर्थिक पैकेज : प्रवासियों को 2 माह तक मिलेगा मुफ्त राशन, 83 फीसदी राशन कार्ड धारक ‘वन नेशन – वन राशनकार्ड’ के दायरे में

कोरोना वायरस की महामारी के चलते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा घोषित 20 लाख करोड़ रुपये के आर्थिक पैकेज को लेकर वित्त मंत्री...

पटना में एक साथ मिले 8 कोरोना पॉजिटिव, बिहार का आंकड़ा पहुंचा 136

सिर्फ पटना में आज 8 पॉजिटिव केस मिले हैं।राजधानी में कोरोना पॉजिटिव केस अब नए इलाकों से सामने आ रहा है।अब तक...

Byomkesh Bakshi: Ep#1- Satyanveshi

IMPROVEMENTO.com - Boost Your Test Preparation. Watch Byomkesh Bakshi's first episode Satyanveshi which starts with Bakshi taking up his first case. Byomkesh Bakshi is a...

पटना में अब किताब की दूकान और रेस्टुरेंट खुलेगी

देश में लॉक डाउन के बाद देश की अर्थववस्था बुरी तरह प्रभावित हुआ है जिसके बाद फिर से देश की अर्थववस्था को...

विश्व में पांच सबसे अधिक समय तक सोने वाले जानवर, जानिए किसकी नींद होती है सबसे लंबी

एक वयस्क मनुष्य को औसतन 8 घंटे की नींद चाहिए लेकिन एक जानवर को कितनी नींद चाहिए। आपको लगता होगा कि इनका...

बिहार (Bihar) को पूरी तरह कोरोना महामारी (Corona epidemic) ने अपनी चपेट में ले लिया है.राज्य के सभी 38 जिले कोरोना वायरस के संक्रमण (Covid-19) की जद में आ चुके हैं. बताया जा रहा है कि मरीजों की संख्या बढ़ने के पीछे बड़ा कारण प्रवासी मजदूरों का राज्य में वापस लौटना है.

लॉकडाउन में बिहार से बाहर फंसे श्रमिकों के बिहार पहुंचने के बाद राज्य सरकार की नींद उड़ गई है. बीते 9 दिनों के भीतर बिहार में मरीजों में आंकड़ों में लगभग तीन गुना वृद्धि हो गयी है. राज्य में अबतक पॉजिटिव मरीजों की संख्या एक हजार के करीब पहुंच गई है. इसमें 4 मई से अबतक मिले लगभग सवा 400 पॉजिटिव मरीज मिले हैं. इसमें से 335 मरीज सिर्फ प्रवासी बिहारी हैं.

बिहार के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय के अनुसार  सभी बाहर से आने वालों का हर स्तर से स्वास्थ्य परीक्षण किया जा रहा है. डॉक्टरों के अनुसार परिस्थिति देखते हुए क्वारंटाइन सेंटर या आइसोलेशन सेंटर में उन्हें रखा जाता है. मंत्री ने कहा कि सरकार रैंडमली टेस्ट करवा रही है. मंत्री का दावा है कि बिहार में कोरोना जांच के लिए आरटीपीसीआर, आरएनए एक्सट्रैक्ट मशीन के अलावे सीबी नेट मशीन काम कर रही है, जिसमें फिलहाल किट की कमी नहीं है. जरूरत पड़ने पर भारत सरकार और बीएमएसआईसीएल बिहार आपूर्ति कर रही है. मंत्री के मुताबिक बिहार में 19 हजार 250 आरएनए किट उपलब्ध है. जबकि 32 हजार 250 विटीएम किट और 35 हजार आरटीपीसीआर किट उपलब्ध है.

फिलहाल न तो किट की कमी है और ना ही मशीनों की और ना ही डॉक्टर की.फिर  सवाल ये उठ रहे हैं कि जब संसाधनों  की कमी नहीं है तो फिर रैंडमली ही प्रवासी बिहारियों की जांच क्यों करवाई जा रही है. सरकार के आंकड़े ही बताते हैं कि बाहर से आये लोगों में रैंडमली 6 प्रतिशत लोगों में पॉजिटिव निकल रहा है. ऐसे में बाहर से आये 2 लाख लोगों में 6 प्रतिशत के मुताबिक 12 हजार श्रमिक पॉजिटिव हैं, जिनकी जांच नहीं हो सकी है.  वरिष्ठ चिकित्सक डॉ. निगम प्रकाश के अनुसार प्रवासी बिहारियों में सबसे ज्यादा पॉजिटिव मिल रहा है. ऐसे में इन्होंने भी रैंडमली जांच की बजाय प्रतिदिन 10 हजार सैम्पल जांच करने की अपील की है. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार भी हर रो दस हजार सैम्पल की जांच का आदेश दे चुके हैं.लेकिन अभीतक  बिहार में 1800 सैम्पल की ही जांच हो पा रही है.

Advertisements

लोकप्रिय