Advertisements

पीएमसीएच की नर्स को मकान मालिक ने घर आने से किया मना

आर्थिक पैकेज : प्रवासियों को 2 माह तक मिलेगा मुफ्त राशन, 83 फीसदी राशन कार्ड धारक ‘वन नेशन – वन राशनकार्ड’ के दायरे में

कोरोना वायरस की महामारी के चलते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा घोषित 20 लाख करोड़ रुपये के आर्थिक पैकेज को लेकर वित्त मंत्री...

पटना में एक साथ मिले 8 कोरोना पॉजिटिव, बिहार का आंकड़ा पहुंचा 136

सिर्फ पटना में आज 8 पॉजिटिव केस मिले हैं।राजधानी में कोरोना पॉजिटिव केस अब नए इलाकों से सामने आ रहा है।अब तक...

Byomkesh Bakshi: Ep#1- Satyanveshi

IMPROVEMENTO.com - Boost Your Test Preparation. Watch Byomkesh Bakshi's first episode Satyanveshi which starts with Bakshi taking up his first case. Byomkesh Bakshi is a...

पटना में अब किताब की दूकान और रेस्टुरेंट खुलेगी

देश में लॉक डाउन के बाद देश की अर्थववस्था बुरी तरह प्रभावित हुआ है जिसके बाद फिर से देश की अर्थववस्था को...

कोरोना से जंग में अग्रिम मोर्चे पर डॉक्टर, नर्स और स्वास्थ्य कर्मी है. लेकिन समाज के कुछ लोगों के असंवेदनशील रवैये के कारण उनके साथ भेदभाव किया जा रहा है. उन लोगों को मकान मालिकों द्वारा घर आने से मना किया जा रहा है. ताजा मामला पीएमसीएच की एक नर्स का है. लॉकडाउन के अगले ही दिन उनके मकान मालिक ने उन्हें घर आने से मना कर दिया है. पटना के खेमनीचक में यह नर्स किराये के मकान में रहती थीं. मकान मालिक का कहना है कि आप यो तो पीएमसीएच में ड्यूटी करो या फिर घर में रहो. ड्यूटी करोगी तो घर में घुसने नहीं देंगे. यह नर्स पीएमसीएच में ही कार्यरत अपनी सहेली और बिहार ए ग्रेड नर्सेज एसोसिएशन की महासचिव प्रमिला कुमारी के घर पर 12 दिनों से रहने को मजबूर है.

Advertisements

नर्स ने बताया कि लॉकडाउन के अगले ही दिन मै जब पीएमसीएच में ड्यूटी कर रही थी, तब मकान मालिक का फोन आया कि आप आज से घर मत आइयेगा. अगर आयी तो ताला नहीं खोला जाएगा. मकान मालिक ने कहा कि आपका समान सुरक्षित है. और कोरोना खत्म होने के बाद आप आ सकती है. लेकिन, जब तक आप कोरोना संकट में पीएमसीएच में ड्यूटी कर रही है, तब तक यहा मत आइयेगा. वह बताती है कि यह सुनने के बाद अगले कई दिनों तक मै डिप्रेशन में चली गयी. इन दिनों अपनी सहेली के घर पर रह रही हूं. अच्छी बात मेरे साथ यही रही कि परिवार के सदस्य नालंदा स्थित गांव गये हुए है और अब भी सब गांव में है. वह कहती है कि मैने मकान मालिक को काफी समझाया भी कि मेरी ड्यूटी कोरोना आइशोलेशन वार्ड में नहीं है. पीएमसीएच में कोई भी कोरोना का मरीज इस समय नहीं है.

प्रशासन से शिकायत करने की भी बात कही, लेकिन मकान मालिक अपने फैसले पर अडिग है. फिर शिकायत इसलिये नहीं की कि कहीं इससे नाराज होकर वह घर से सामान भी निकालने को न बोल दें. ऐसा हुआ तो इस समय कोई घर भी नहीं देगा. यही सब सोच कर चुप हो गयी. परिवार और रिश्तेदार को भी नहीं बताया है. क्योकि वो परेशान हो जाएंगे. वहीं, इस घटना के बारे में बिहार ए ग्रेड नर्सेंज एसोसिएशन की महासचिव प्रमिला कुमारी कहती है कि वह नर्स अभी मेरे घर पर ही रह रही है. कोरोना के कारण ऐसी परेशानी इन दिनों कई और नर्सों के साथ भी हो रही है. दीघा से आने वाली पीएमसीएच की एक और नर्स को मकान मालिक परेशान कर रहा है. वे कहती है कि बेहतर होगा कि सरकार हम लोगों को फ्लैट मुहैया करवाये. जिससे बिना किसी परेशानी के हम मरीजों की सेवा कर सकें. वहीं इस बारे में पीएमसीएच के अधीक्षक डॉ बीके कारक ने कहा कि मेरे पास ऐसा कोई मामला अभी नहीं आया है. अगर संबंधित नर्स हमें इस तरह की शिकायत करती है तो उनकी परेशानी दूर करने की कोशिश की जाएगी.

Advertisements

लोकप्रिय