Advertisements

ट्रेन टिकेट के बुकिंग के लिए मारामारी, बिहार की ट्रेनों में केवल कुछ ही सीटें खाली

आर्थिक पैकेज : प्रवासियों को 2 माह तक मिलेगा मुफ्त राशन, 83 फीसदी राशन कार्ड धारक ‘वन नेशन – वन राशनकार्ड’ के दायरे में

कोरोना वायरस की महामारी के चलते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा घोषित 20 लाख करोड़ रुपये के आर्थिक पैकेज को लेकर वित्त मंत्री...

पटना में एक साथ मिले 8 कोरोना पॉजिटिव, बिहार का आंकड़ा पहुंचा 136

सिर्फ पटना में आज 8 पॉजिटिव केस मिले हैं।राजधानी में कोरोना पॉजिटिव केस अब नए इलाकों से सामने आ रहा है।अब तक...

Byomkesh Bakshi: Ep#1- Satyanveshi

IMPROVEMENTO.com - Boost Your Test Preparation. Watch Byomkesh Bakshi's first episode Satyanveshi which starts with Bakshi taking up his first case. Byomkesh Bakshi is a...

पटना में अब किताब की दूकान और रेस्टुरेंट खुलेगी

देश में लॉक डाउन के बाद देश की अर्थववस्था बुरी तरह प्रभावित हुआ है जिसके बाद फिर से देश की अर्थववस्था को...

रेल सेवा के 12 मई से शुरू होने के साथ ही टिकट बुकिंग (Ticket Booking) को लेकर मारामारी मच गई है.15 रूटों पर चलाई जा रही स्पेशल ट्रेनों (Special Trains) के लिए अब तक 2 लाख 34 हजार 411 यात्रियों ने टिकटों की बुकिंग करा ली है.रेलवे को 45.30 करोड़ रुपये किराए के रूप में मिल चुके हैं.

13 मई को 20,149 यात्रियों ने स्पेशल ट्रेनों से यात्रा की और गुरूवार को 18 स्पेशल ट्रेनों में 25,737 यात्रियों की बुकिंग है. अभी तक स्पेशल ट्रेनों की टिकट बुकिंग से रेलवे को 45 करोड़ 30 लाख, 9 हजार 675 रुपए मिले हैं.

कोरोना वायरस (Coronavirus) के कारण हुए लॉकडाउन में करीब डेढ़ महीने तक यात्री रेल सेवा बंद रहने के बाद रेलवे ने 12 मई से 15 रूटों पर स्पेशल ट्रेनों की शुरुआत की है. नई दिल्ली से देश के 15 प्रमुख शहरों के लिए ट्रेनें चलाई जा रही हैं. हिंदुस्तान के अनुसार, एक अधिकारी ने बताया कि बुधवार को करीब 9 हजार लोग 9 स्पेशल ट्रेनों के जरिए राष्ट्रीय राजधानी से अन्य राज्यों को निकल चुके हैं. 9 में से 8 ट्रेनें जो हावड़ा, जम्मू, तिरुवनंतपुरम, चेन्नई, डिब्रूगढ़, मुंबई, रांची, अहमदाबाद के लिए निकलीं, उनमें सभी सीटें बुक थीं. केवल पटना के लिए निकाली गई स्पेशल ट्रेन में 87 फीसदी सीटें बुक थीं यानी 13 फीसदी सीटें खाली रहीं.

नई दिल्ली से हावड़ा के लिए चलाई गई ट्रेन में 1,126 यात्रियों की क्षमता थी, लेकिन 1377 यात्रियों ने बुकिंग कराई थी. यानी इस रूट की ट्रेनों में 122 फीसदी बुकिंग की गई थी. नई दिल्ली तिरुवनंतपुरम स्पेशल ट्रेन के लिए 133 फीसदी और दिल्ली-चेन्नई के लिए क्षमता की तुलना में 150 फीसदी बुकिंग थी. इसी तरह नई दिल्ली-जम्मू तवी के लिए 109, नई दिल्ली रांची के लिए 115 फीसदी बुकिंग थी.

रेलवे के एक अधिकारी ने कहा कि क्षमता से अधिक बुकिंग का मतलब यह नहीं है कि लोग खड़े होकर गए हैं. इसका मतलब यह कि बीच के स्टेशनों पर कुछ लोग उतरते हैं और उन सीटों पर आगे की यात्रा के लिए दूसरे यात्रियों की बुकिंग होती है. इस तरह यह सफर करने वाले यात्रियों की कुल संख्या है.

दिल्ली से बुधवार को रवाना होने वाली केवल एक ट्रेन अपनी पूरी क्षमता के साथ नहीं चली और वह थी नयी दिल्ली-राजेंद्र नगर (पटना) ट्रेन. इसमें 1,239 यात्रियों के सफर करने की क्षमता थी लेकिन वह केवल 1,077 यात्रियों को लेकर गई. दिल्ली में बिहार के लोगों की संख्या काफी अधिक है और अक्सर दिल्ली से बिहार जाने वाली ट्रेनों में सबसे अधिक भीड़ होती है. इस समय चल रही स्पेशल नई दिल्ली-पटना स्पेशल ट्रेन में कम भीड़ की वजह से कई लोग अचरज में हैं. हालांकि अधिकारियों का कहना है कि इस ट्रेन में भीड़ इसलिए कम है क्योंकि पहले ही बिहार के लिए बड़ी संख्या में श्रमिक स्पेशल ट्रेनें चलाई जा रही हैं.

Advertisements

लोकप्रिय