Advertisements
Home राज्यवार बिहार अयोध्या राम मंदिर भूमिपूजन में पटना हनुमान मंदिर के सवा लाख रघुपति...

अयोध्या राम मंदिर भूमिपूजन में पटना हनुमान मंदिर के सवा लाख रघुपति लड्डू का लगेगा भोग

Advertisements
पटना के हनुमान मंदिर का प्रसिद्ध नैवेद्यम बनाता कारीगर

Ram Mandir Nirman महावीर मंदिर न्यास पटना के सचिव आचार्य किशोर कुणाल रविवार को पटना से अयोध्या के लिए निकले निकलने से पहले न्यूज़ 18 से बातचीत में ये जानकारी दी.

पटना. पांच अगस्त को अयोध्या (Ayodhya) में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) राम मंदिर का भूमि पूजन (Ram Mandir Bhumi Poojan) करेंगे. इस मौके पर पटना के हनुमान मंदिर (Patna Hanuman Mandir) की तरफ से विशेष तौर पर बनाए गए सवा लाख रघुपति लड्डू का भोग श्रीराम को लगेगा. पटना हनुमान मंदिर के सचिव किशोर कुणाल ने इसकी जानकारी देते हुए कहा कि इस प्रसाद को बनाने के लिए महावीर मंदिर न्यास पटना की ओर से जरूरी सामग्री अयोध्या भेजी गयी है.

महावीर मंदिर से कुशल कारीगरों को भेजा गया अयोध्या

अयोध्या में भगवान श्रीराम की जन्मभूमि मंदिर निर्माण के दौरान रघुपति लड्डू बनाने के लिए पटना के महावीर मंदिर न्यास पटना की ओर से जरूरी सामग्री अयोध्या भेजी गयी है. रघुपति लड्डू बनाने के लिए महावीर मंदिर पटना के बीस कुशल कारीगर शेषाद्रि की अगुवाई में अयोध्या पहुंचे हुए हैं.

ऑस्ट्रेलिया के बेसन और कश्मीर के केसर से तैयार होगा रघुपति लड्डूमहावीर मंदिर न्यास पटना के सचिव आचार्य किशोर कुणाल रविवार को पटना से अयोध्या के लिए निकले निकलने से पहले न्यूज़ 18 से बातचीत में उन्होंने बताया कि रघुपति लड्डू के लिये गाय के दूध का शुद्ध घी बेंगलुरू से आया है जबकि ऑस्ट्रेलिया से राजा ब्रांड बेसन आया है. लड्डू के लिये केसर कश्मीर के पुलवामा से आया हुआ है वहीं इलायची, काजू और किसमिस केरला से आया है. चीनी उत्तर प्रदेश मिल की और डब्बे पटना, बिहार से भेजे गये हैं. पटना का नैवेद्यम अयोध्या में रघुपति लड्डू के नाम से वितरित होगा. लड्डू बनाने वाले सभी तिरुपति मंदिर के कुशल कारीगर रहे हैं.

बिहार के इन जगहों पर भी लगेगा इस लड्डू का भोग 

अयोध्या में रघुपति लड्डू का भोग लगने के बाद बिहार के सीतामढ़ी में स्थित जानकीजी के जन्म स्थान मन्दिर, पुनौराधाम में तथा जहां-जहां भगवान श्रीराम के चरण पड़े, वहां के मंदिरों में प्रसाद भेजा जायेगा. बिहार में ऐसे स्थल हैं सरयू-गंगा का संगम तट, बक्सर का सिद्धाश्रम, गंगा-शोण का संगम तट, वैशाली (हाजीपुर) का रामचौरा मंदिर और दरभंगा के पास अहिल्या स्थान. आचार्य ने कहा कि यह भूमि पूजन स्वतंत्रता के बाद देश का सबसे महत्वपूर्ण पावन अवसर है.



Source link

Advertisements

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Advertisements

लोकप्रिय

Teachers Recruitment in UP : उत्तर प्रदेश में एक सप्ताह में होगी 31661 पदों पर शिक्षक भर्ती

Publish Date:Sat, 19 Sep 2020 02:56 PM (IST) लखनऊ, जेएनएन। उत्तर प्रदेश में 69000 शिक्षकों की भर्ती के मामले में उत्तर प्रदेश सरकार ने...

कृषि विधेयक किसानों के रक्षा कवच, विरोध करने वाले दे रहे बिचौलियों का साथ – मोदी

नयी दिल्ली (भाषा) - प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को देश के किसानों को आश्वस्त किया कि लोकसभा से पारित कृषि सुधार संबंधी विधेयक...