Advertisements
Home राज्यवार झारखण्ड गिरिडीह: नवजीवन नर्सिंग होम के कंपाउंडर ने लगायी फांसी - NEWSWING

गिरिडीह: नवजीवन नर्सिंग होम के कंपाउंडर ने लगायी फांसी – NEWSWING

Advertisements
  • मृतक की भाभी ने कहा- नर्सिंग होम में लगातार ड्यूटी से तबीयत हो गयी थी खराब
  • नगर और पचंबा थाना की पुलिस पहुंची, दरवाजा तोड़कर निकाला शव
  • मृतक ने तीन दिन पहले करायी थी कोरोना की जांच
  • चार दिनों से नर्सिंग होम में मां भी है इलाजरत

Giridih: शहर के मवेशी अस्पताल के समीप एक मकान में 25 वर्षीय युवक कुंदन भास्कर ने सोमवार को फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली. वह नवजीवन नर्सिंग होम में कंपाउंडर का काम करता था.

कुंदन का कोई सुसाइड नोट नहीं मिला है. उसकी भाभी का कहना है कि दो दिन पहले कुंदन ने उन्हें बताया कि उसकी तबीयत ठीक नहीं लग रही है. कमरे में अकेले रहते हुए उसने सेलाइन भी चढ़वाया था.

कोरोना काल में नवजीवन नर्सिंग होम में लगातार ड्यूटी के कारण कुंदन की तबीयत खराब होने की बात कही जा रही है. भाभी समेत परिवार के अन्य सदस्यों ने आराम करने का सुझाव दिया था जिसके बाद ही कुंदन दो दिनों से नर्सिंग होम ड्यूटी पर नहीं जा रहा था.

advt

इसे भी पढ़ें – कोरोना वायरस के कम्युनिटी ट्रांसमिशन की अनेदखी कई गुना अधिक घातक हो सकती है

करवायी थी कोरोना जांच

जानकारी के अनुसार मृतक कुंदन ने तीन दिन पहले ही कोरोना की ट्रूनेट जांच करायी थी. इसके साथ ही नर्सिंग होम के कई कर्मियों ने भी जांच करायी थी. हालांकि मृतक के बीमारी से ग्रसित होने से उसकी भाभी पूनम देवी ने भी इंकार किया है. कुंदन शहर के नवजीवन नर्सिंग होम में बतौर कपांउडर कार्यरत था.

जानकारी मिलने के बाद नगर और पचंबा थाना की पुलिस एक साथ घटनास्थल पहुंची. कमरा भीतर से बंद था. पचंबा थाना के पुलिस पदाधिकारी ने कमरे का दरवाजा तोड़ा तो देखा कि कुंदन का शव कुर्सी के सहारे कमरे के छत्त के हुक पर रस्सी से झूल रहा है.

पुलिस की मौजूदगी में कुंदन के शव को पड़ोस के युवकों ने नीचे उतारा. पुलिस के निर्देश के बाद परिजनों और पड़ोसियों ने शव को पोस्टमॉर्टम के लिए अस्पताल भेज दिया.

इधर मृतक कुंदन की भाभी पूनम देवी और बहनोई विकास यादव ने बताया कि मृतक मवेशी अस्पताल के समीप भुनेशवर पंडित के घर पर किराये पर अकेला रहता था. वह धनवार थाना क्षेत्र के खेतो गांव का रहने वाला था. रविवार की रात से कुंदन कमरे में अकेला था.

इसे भी पढ़ें –बेतला नेशनल पार्क में सरयू राय ने जतायी हथिनी की हत्या की आशंका, डायरेक्टर ने कहा नाइंसाफी नहीं होने दूंगा

मां नवजीवन में ही भर्ती

मां मालती देवी की तबीयत खराब रहने के कारण कुंदन के भाई और भाभी उनको लेकर गिरिडीह पहुंचे और नवजीवन में भर्ती कराया. लिहाजा, मां मालती देवी के साथ कुंदन का भाई और भाभी कुंदन के किराये के मकान में चार दिनों से रह रहे थे.

इसी क्रम में दो दिन पहले कुंदन भाभी को खुद की तबीयत खराब होने की बात कहकर घर पर ही आराम कर रहा था. वहीं सोमवार की सुबह आठ बजे जब पूनम देवी ने कुंदन को फोन किया, तो कुंदन ने फोन नहीं उठाया. इसके भाई-भाभी उसके दरवाजे पर पहुंचे और कमरा खुलवाने का प्रयास किया. दरवाजा नहीं खुला, तो पुलिस को घटना की जानकारी दी गयी.

इसे भी पढ़ें –प्रवासियों की वापसी से बढ़ा चाइल्ड ट्रैफिकिंग का खतरा, 14 जिलों में जेजे बोर्ड और CWC के नहीं होने से दोहरी मार



Source link

Advertisements

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Advertisements

लोकप्रिय

महिला सुरक्षा और समाज की सोच

कुछ दिन पहले देखी एक फिल्म का एक संवाद भीतर तक गुदगुदा गया। नायिका के चले जाने के बाद नायक कहता है- ‘मोहब्बत थी...

गुप्तेश्वर पांडे ने बिहार डीजीपी से लिया VRS, चुनाव लड़ने की चर्चा – BBC News हिंदी

23 सितंबर 2020अपडेटेड 32 मिनट पहलेइमेज स्रोत, FACEBOOK/GUPTESHWAR PANDEYबिहार सरकार ने डीजीपी गुप्तेश्वर पांडे का स्वैच्छिक रिटायरमेंट आवेदन स्वीकार कर लिया है. होमगार्ड के...