Advertisements
Home राज्यवार बिहार Flood in Bihar: बिहार में 'जल सैलाब' से बिगड़े हालात, कहीं गिरे...

Flood in Bihar: बिहार में ‘जल सैलाब’ से बिगड़े हालात, कहीं गिरे घर तो कहीं गांव में घुसा पानी

Advertisements

नवभारतटाइम्स.कॉम | Updated:

बिहार और नेपाल के तराई क्षेत्रों में लगातार बारिश से सूबे की सभी प्रमुख नदियों का जलस्तर (Flood Situation in Bihar) बढ़ गया है। हालात ऐसे हो गए हैं कि कई इलाकों में बाढ़ का पानी प्रवेश कर गया है। राज्य की कई नदियां खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं। जल सैलाब से सीतामढ़ी, शिवहर, सुपौल, किशनगंज, दरभंगा, मुजफ्फरपुर, गोपालगंज, पूर्वी और पश्चिमी चम्पारण के कई गांव प्रभावित हुए हैं। इस बीच सरकार और प्रशासन की ओर से बाढ़ प्रभावित इलाकों में राहत और बचाव के काम तेजी से चलाया जा रहा है।

कई गांवों में मसान नदी का तांडव

NBT

पश्चिमी चंपारण के बगहा में कई ग्राम पंचायतों के अंदर मसान नदी का पानी घुस गया है। इसमें सलहा बारियरवा के गांव झारमहुई, अजमल नगर और तमकुही शामिल हैं, जहां मसान नदी का जलस्तर बढ़ने के बाद भीषण कटाव देखने को मिल रहा है। इस जल सैलाब से पूरा गांव प्रभावित हुआ है। बहुत से लोगों को अपना घर छोड़ कर दूसरे के घरों में शरण लेना पड़ा है।

कुछ ग्रामीणों के गिरे घर, सड़क मार्ग भी प्रभावित

NBT

बगहा के इन गांवों में मसान नदी के आए सैलाब की वजह से कुछ लोगों के घर गिरने की खबर है। झारमहुई गांव से निकलने का एक ही रास्ता था वह भी करीब 10 फीट कट गया है। संपर्क मार्ग टूटने से ग्रामीणों को कहीं आने-जाने में भी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। पूरे गांव में कमरभर पानी चढ़ चुका है। मसान नदी के सैलाब से अजमल नगर, तमकुही, जमुनिया, मुशाहर टोला, सलहा जिगना, बरियारवा सभी गांव प्रभावित हुए हैं।

बाढ़ के हालात पर स्थानीय लोगों ने उठाए सवाल

NBT

लगातार सैलाब से इन इलाकों में तबाही मची हुई है। पूरे मामले में मसान नदी बाढ़ बचाव संघर्ष समिति के अध्यक्ष समेत कई वरिष्ठ लोगों ने बाढ़ की स्थिति पर सवाल उठाए। उन्होंने कहा कि अगर समय रहते काम किया गया है मसान नदी के कहर से पूरे पंचायत को राहत मिल गई होती।

कई जिलों में नदियों का बढ़ा जल स्तर

NBT

बिहार जल संसाधन विभाग के अनुसार, बागमती नदी सोमवार को सीतामढ़ी के ढेंग, सोनाखान, डूबाधार और कटौंझा में खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं। मुजफ्फरपुर के बेनीबाद और दरभंगा के हायाघाट में भी ऐसा ही हाल है। बूढ़ी गंडक समस्तीपुर के रोसरा रेल पुल के पास खतरे के निशान से ऊपर हैं। कोसी का जलस्तर स्थिर बना हुआ है लेकिन गंडक नदी के जलस्तर में बढ़ोतरी दर्ज की गई है।

अगले कुछ दिन बेहद अहम

NBT

भारतीय मौसम विभाग के पूर्वानुमान के मुताबिक, बिहार और नेपाल के कई इलाकों में अगले दो दिनों में बारिश का अलर्ट है। ऐसे में सूबे की लगभग सभी प्रमुख नदियों में के जलस्तर में बढ़ोतरी की संभावना है। इस बीच सरकार की ओर से कई इलाकों में राहत शिविर चलाए जा रहे हैं। सुपौल और दरभंगा में दो-दो और गोपालगंज में तीन राहत शिविर चलाए जा रहे हैं। गोपालगंज और पूर्वी चंपारण में नौ-नौ, सुपौल में दो और दरभंगा में सात सामुदायिक रसोई घर चलाए जा रहे हैं, जिनमें प्रतिदिन लगभग 21,000 लोग भोजन कर रहे हैं।

Source link

Advertisements

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Advertisements

लोकप्रिय

खुशखबरी: नवादा-बिहारशरीफ के बीच बनेगा नया रेल लाइन… जानिए कहां कहां बनेगा स्टेशन

नवादा- नालंदा और पटना वासियों के लिए खुशखबरी है. क्योंकि नवादा से पटना जाने के लिए ट्रेन बदलने की जरूरत...

जिम्मेदारी से नहीं भाग रहा केन्द्र, राजस्व नुकसान की भरपाई पर जीएसटी परिषद करेगी विचार: सीतारमण

डिसक्लेमर:यह आर्टिकल एजेंसी फीड से ऑटो-अपलोड हुआ है। इसे नवभारतटाइम्स.कॉम की टीम ने एडिट नहीं किया है।भाषा | Updated: 19 Sep 2020,...