Advertisements
Home राज्यवार दिल्ली विकास दुबे एनकाउंटर केसः फिर से जांच आयोग गठित करेगी यूपी सरकार,...

विकास दुबे एनकाउंटर केसः फिर से जांच आयोग गठित करेगी यूपी सरकार, सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज होंगे शामिल

Advertisements
UP सरकार ने SC से कहा- पुलिस ने गैंगस्टर विकास दुबे पर सेल्फ डिफेंस में चलाई थी गोली
हाइलाइट्स

  • विकास दुबे एनकाउंटर मामले में सुप्रीम कोर्ट में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से हुई सुनवाई
  • सुप्रीम कोर्ट ने दिया आदेश, फिर से जांच कमिटी गठित करे उत्तर प्रदेश सरकार
  • नई जांच समिति में सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज को किया जाए शामिल, यूपी सरकार राजी

नई दिल्ली

उत्तर प्रदेश के कानपुर के कुख्यात हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे एनकाउंटर मामले में उत्तर प्रदेश सरकार जांच कमिटी को दोबारा से गठित किए जाने पर राजी हो गई है। सोमवार को मामले को लेकर वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हुई, जिसमें कोर्ट ने यूपी सरकार को सर्वोच्च अदालत के एक पूर्व जज और एक रिटायर्ड पुलिस ऑफिसर को जांच समिति में शामिल करने का आदेश दिया।

कोर्ट ने कहा कि टॉप कोर्ट के सिटिंग जज को जांच समिति में शामिल नहीं किया जा सकता। कोर्ट के आदेश के बाद यूपी सरकार ने जांच कमिटी के दोबारा गठन को लेकर सहमति जताई। सरकार ने कोर्ट को आश्वस्त किया कि दो दिनों में नई कमिटी की अधिसूचना कोर्ट के सामने पेश की जाएगी। यूपी सरकार द्वारा न्यायिक जांच कमिटी पर ड्राफ्ट अधिसूचना जारी करने के बाद बुधवार को कोर्ट मामले की अगली सुनवाई करेगा।

विकास दुबे का रेकॉर्ड तलब

सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने इस बात पर हैरानी भी जताई कि विकास दुबे पर इतने मुकदमे दर्ज होने के बाद भी उसे जमानत क्यों दी गई। कोर्ट ने यूपी सरकार से रिकॉर्ड तलब किया और कहा कि विकास दुबे पर गंभीर अपराध के अनेक मुकदमे दर्ज होने के बाद भी वह जेल से बाहर था। यह सिस्टम की विफलता है। इस दौरान कोर्ट ने यूपी सरकार को भी नसीहत देते हुए कहा, ‘एक राज्य तौर पर आपको कानून के शासन को बनाए रखना होगा। ऐसा करना आपका कर्तव्य है।’

मुठभेड़ से पहले विकास का आखिरी वीडियो, टोल प्‍लाजा से गुजरी थी कार

  • मुठभेड़ से पहले विकास का आखिरी वीडियो, टोल प्‍लाजा से गुजरी थी कार
  • बारिश में फिसल गई तेज रफ्तार टीयूवी!

    यूपी पुलिस के मुताबिक, उनकी गाड़ी बारिश के चले रोड पर फिसली और पलट गई। हादसे में विकास के अलावा कुछ पुलिसकर्मी चोटिल हुए।

  • स्‍पॉट से पहले रोक दी गईं गाड़‍ियां

    पुलिस के मुताबिक गाड़ी पलटने के बाद जब मुठभेड़ शुरू हुई तो ट्रैफिक रुकवा दिया गया। मीडियाकर्मियों की गाड़‍ियों भी दूर रुकवाई गईं।

  • विकास ने छीनी STF अधिकारी की पिस्‍टल

    हादसे से जब तक सब उबर पाते, विकास ने तबतक घायल STF अधिकारी की पिस्‍टल छीन ली और भाग निकला। पुलिस ने उसका पीछा किया।

  • सरेंडर को कहती रही पुलिस लेकिन...

    कानपुर वेस्‍ट के एसपी के मुताबिक, पुलिस ने विकास दुबे से सरेंडर करने को कहा मगर उसने फायर झोंक दिया।

  • जवाबी कार्रवाई में विकास दुबे ढेर

    पुलिस के मुताबिक, विकास ने उनपर गोलियां चलाईं। जवाब में उन्‍होंने फायरिंग की जिसमें विकास दुबे मारा गया।

  • हैलट अस्‍पताल ले जाया गया विकास

    जब विकास दुबे बेसुध हो गया तो पुलिस उसे कानपुर के हैलट अस्‍पताल लेकर आई। यहां डॉक्‍टर्स ने उसे मृत घोषित कर दिया।

  • कैसे मरा दुबे, चश्मदीद पत्रकारों से जानिए
  • विकास दुबे को हथकड़ी क्यों नहीं पहनाई? सुनें कानपुर एसपी का जवाब
  • कई पुलिसकर्मी हुए हैं जख्‍मी

    विकास दुबे के साथ मुठभेड़ में कई पुलिसकर्मी जख्‍मी हुए हैं। आईजी कानपुर ने कहा कि चार पुलिसकर्मी घायल हुए हैं।

  • STF कर्मचारी को भी लगी चोट

    गाड़ी पलटने और मुठभेड़ में STF के एक अधिकारी भी चोटिल हुए। उन्‍हें भी इलाज के लिए हैलट में भर्ती किया गया है।

  • बेसुध थे पुलिस के जवान

    जब पुलिसकर्मियों को स्‍ट्रेचर पर अस्‍पताल ले जाया गया तो तीन बेसुध थे। उनकी हालत स्‍टेबल बताई जा रही है।

  • दो पुलिसकर्मियों को छूकर निकली गोली

    कानपुर के लाला लाजपत राय हॉस्पिटल (हैलट हॉस्पिटल) के प्रिंसिपल डॉ आरबी कमल के अनुसार, घायल तीन पुलिसकर्मियों में से दो को गोली छूकर निकल गई।

  • विकास दुबे को लगीं चार गोलियां

    हैलट प्रिंसिपल के मुताबिक, विकास दुबे की छाती पर गोलियों के तीन घाव हैं। एक गोली उसकी बांह पर भी लगी है।

  • फोंरेंसिक टीम करने पहुंची गाड़ी की जांच

    यूपी पुलिस की फोरेंसिक टीम ने मौके पर पहुंच गाड़ी और एनकाउंटर एरिया से सबूत इकट्ठे किए हैं।

  • एनकाउंटर साइट पर 'पुलिस प्रशासन जिंदाबाद' के नारे
  • जेसीबी से हटवाई गई गाड़ी

    गाड़ी पलटकर कच्‍चे इलाके में चली गई थी। उसे जेसीबी की मदद से हटवाया गया।

  • एनकाउंटर साइट पर जुटी भारी भीड़

    विकास दुबे के पीछे-पीछे मीडिया तो कानपुर आ ही रहा था। जब एनकाउंटर की खबर फैली तो आसपास के गांवों से सैकड़ों लोग साइट पर जमा हो गए।

  • कोरोना निगेटिव आई है विकास दुबे की रिपोर्ट
  • बीच सफर में कैसे बदल गई विकास दुबे की गाड़ी? उठ रहे सवाल
  • क्या है यूपी STF, जिसने किया दुबे एनकाउंटर



हैदराबाद वाले मामले से अलग है एनकाउंटर


यूपी सरकार की तरफ से पैरवी करते हुए सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने कहा कि मामले की जांच के लिए राज्य सरकार ने जांच कमिटी का गठन किया है। उन्होंने कोर्ट को बताया कि दुबे ने शहीद हुए पुलिसवालों की बॉडी को जलाने की भी कोशिश की थी। इसके बाद मुख्य न्यायाधीश बोबड़े ने सॉलिसिटर जनरल से पूछा कि यह हैदराबाद एनकाउंटर से किस तरह से अलग है? इसके जवाब में डीजीपी के वकील हरीश साल्वे ने कहा कि यह केस हैदराबाद वाले मामले से बहुत अलग है। विकास दुबे जैसे गैंगस्टर से सामना हो तो पुलिस क्या करे? पुलिसवालों के भी मौलिक अधिकार हैं।



‘हमको मत बताइए कि विकास दुबे क्या था?’


राज्य सरकार की ओर से तुषार मेहता ने कहा कि एनकाउंटर मामले की निष्पक्ष जांच चल रही है। विकास दुबे 65 FIR वाला कुख्यात गैंगस्टर था, जो इन दिनों परोल पर बाहर था। इस दलील पर सीजेआई भड़क गए। उन्होंने सॉलिसिटर जनरल से कहा कि हमको मत बताइए कि विकास दुबे क्या था? चीफ़ जस्टिस ने कहा कि विकास दुबे पर गंभीर अपराध के अनेकों मुक़दमे दर्ज थे फिर भी वह जेल से बाहर था, जो कि सिस्टम की विफलता है।

विकास दुबे पर बनी फिल्म तो कहर ढाएंगे ये ऐक्टर्स

  • विकास दुबे पर बनी फिल्म तो कहर ढाएंगे ये ऐक्टर्स

    कानपुर के गैंगस्टर विकास दुबे का फिल्मी स्टाइल में एनकाउंटर हो गया। विकास 8 पुलिसवालों की हत्या का मुख्य आरोपी था। पुलिस के साथ विकास की 6 दिन तक आंख-मिचौनी चली। इसके बाद वह उज्जैन के महाकाल मंदिर में पकड़ा गया। वहां से कानपुर लाते वक्त रास्ते में उसका एनकाउंटर हो गया। पुलिस का कहना है कि विकास ने भागने की कोशिश की थी। उसे सरेंडर करने को कहा गया लेकिन उसने फायरिंग की। बचाव में पुलिस को गोली चलानी पड़ी। यह मामला देशभर में चर्चा का विषय बना हुआ है। बॉलिवुड सिलेब्स भी इस पर तरह-तरह के कॉमेंट्स कर रहे हैं। एक तरफ इस पर फिल्म बनाने की खबरें भी आ रही हैं। अगर ऐसा होता है विकास के रोल में कौन सा ऐक्टर फिट बैठेगा, देखते हैं….

  • पंकज त्रिपाठी

    सोशल मीडिया पर मजाक में ही सही पर विकास दुबे के रोल के लिए पंकज त्रिपाठी का नाम लिया जा रहा है। ‘मिर्जापुर’ वेबसीरीज में वह गैंगस्टर कालीन भैया के रोल में अपना टैलंट दिखा चुके हैं। उनकी संजीदा ऐक्टिंग के साथ उनके लुक्स भी इस रोल के लिए फिट बैठते हैं।

  • तिग्मांशु धूलिया

    फिल्ममेकर और स्क्रिप्ट राइटर तिग्मांशु धूलिया वैसे तो कम फिल्मों में नजर आए हैं। हालांकि ‘गैंग्स ऑफ वासेपुर’ में उनकी दमदार ऐक्टिंग के बाद उनका नाम इस लिस्ट में रखा जा सकता है।

  • मनोज बाजपेयी

    मनोज बाजपेयी को भी गैंगस्टर मूवीज का अच्छा-खासा अनुभव है। ‘सत्या’ में भीखू म्हात्रे के दमदार रोल से लेकर ‘गैंग्स ऑफ वासेपुर’ और ‘शूटआउट ऐट वडाला’ जैसी फिल्मों में वह अपनी ऐक्टिंग स्किल्स दिखा चुके हैं।

  • संजय दत्त

    एक इंटरव्यू के दौरान संजय दत्त ने कहा था कि गैंगस्टर की ऐक्टिंग वह बहुत आसानी से कर लेते हैं। उन्होंने मजाक में कहा था कि उन्हें जेल का एक्सपीरिएंस भी है। वैसे ‘वास्तव’ से लेकर ‘साहेब बीवी गैंगस्टर 3’ तक वह अपने टैलंट को साबित भी कर चुके हैं। आपको क्या लगता है, विकास दुबे के रोल में संजू बाबा फिट बैठेंगे?

  • अली फजल

    टीवी सीरीज ‘मिर्जापुर’ में गुड्डू पंडित का रोल निभा चुके अली फजल को भी इस लिस्ट में रखा जा सकता है। उनका उत्तर प्रदेश से कनेक्शन भी है। उनका परिवार बनारस का है और वह खुद लखनऊ में पैदा हुए थे।

  • विवेक ओबेरॉय

    विवेक ओबेरॉय को ऐक्शन फिल्मों का बढ़िया अनुभव है। ‘कंपनी’, ‘शूटआउट’ ऐट लोखंडवाला और ‘ओमकारा’ जैसी फिल्मों को याद करें तो उनको भी विकास के रोल में देखा जा सकता है।

  • अजय देवगन

    गैंगस्टर के रोल में अजय देवगन भी खुद को साबित कर चुके हैं। ‘वन्‍स अपॉन ए टाइम इन मुंबई’ में उनका सुल्‍तान म‍िर्जा का रोल कौन भूल सकता है।

  • इमरान हाशमी

    इमरान हाशमी की गैंगस्टर, वन्‍स अपॉन ए टाइम इन मुंबई, फुटपाथ जैसी फ‍िल्‍मों को याद करें तो कहा जा सकता है कि वह विकास दुबे जैसे गैंगस्टर के रोल में जम सकते हैं।

  • नवाजुद्दीन सिद्दीकी

    ‘गैंग्स ऑफ वासेपुर’ बाप का, दादा का, भाई का… सबका बदला लेने के बाद फैजल का रोल नवाजुद्दीन की पहचान बन गया था। ‘बदलापुर’ हो ‘सेक्रेड गेम्स’ नवाज नेगेटिव रोल्स में खुद को साबित कर चुके हैं। यूपी के गैंगस्टर विकास दुबे के रोल में वह भी सशक्त दावेदार हैं।

एनकाउंटर में मारा गया था विकास

गौरतलब है कि बीते 10 जुलाई को 8 पुलिसकर्मियों की हत्या का मुख्य आरोपी विकास दुबे पुलिस एनकाउंटर में मारा गया था। दुबे के एनकाउंटर पर कई सवाल उठे थे। इस बीच दो वकीलों ने पुलिसिया एनकाउंटर की सीबीआई और एनआईए से जांच कराने के लिए सुप्रीम कोर्ट में पिटीशन दाखिल किया था। इस बीच सुप्रीम कोर्ट को जवाब देते हुए उत्तर प्रदेश पुलिस ने एक हलफानामा पेश किया था जिसमें कहा गया था कि विकास दुबे का एनकाउंटर फर्जी नहीं था।

पुलिस ने पेश किया था हलफनामा

पुलिस ने कहा था कि विकास दुबे के एनकाउंटर की तुलना हैदराबाद के रेप आरोपियों के एनकाउंटर से नहीं किया जाना चाहिए। तेलंगाना सरकार ने एनकाउंटर की जांच के लिए ज्यूडिशल कमिशन का गठन नहीं किया था जबकि यूपी सरकार ने एनकाउंटर की जांच के लिए एक न्यायिक आयोग गठित किया है। पुलिस ने उज्जैन से कानपुर जा रही हादसाग्रस्त पुलिस की गाड़ी, विकास दुबे के शव और बिकरू गांव में मारे गए 8 पुलिसकर्मियों के शवों की तस्वीरें भी अपने हलफनामे के साथ कोर्ट के सामने पेश किया है।

यह भी पढ़ेंः 22 साल पहले जब बिकरू में विकास के हथियारबंद परिजन ने घेरा था पुलिस का रास्ता

पुलिसकर्मियों पर किया था हमला

बता दें कि 3 जुलाई को कानपुर के बिकरू गांव में विकास दुबे को गिरफ्तार करने पहुंची पुलिस की टीम पर गैंगस्टर तथा उसके गुर्गों ने हमला किया। इस हमले में 8 पुलिसकर्मियों की जान चली गई थी। इसके 6 दिन बाद पुलिस ने घटना के मुख्य आरोपी विकास दुबे को उज्जैन से गिरफ्तार कर लिया। वहां से कानपुर ले जाते समय रास्ते में गाड़ी पलट गई, जिसके बाद विकास पुलिसकर्मी की पिस्टल छीनकर भागने लगा। यूपी पुलिस का दावा है कि इस दौरान उसने गोली भी चलाई। जवाबी कार्रवाई में पुलिस की गोली लगने के बाद विकास की मौत हो गई।

विकास एनकाउंटर केस की सुनवाई

विकास एनकाउंटर केस की सुनवाई

Source link

Advertisements

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Advertisements

लोकप्रिय

पायल घोष ने अनुराग कश्यप पर लगाया यौन उत्पीड़न का आरोप – BBC News हिंदी

2 घंटे पहलेइमेज स्रोत, @iampayalghoshअभिनेत्री पायल घोष ने फ़िल्मकार अनुराग कश्यप पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया है. पायल घोष ने अनुराग कश्यप को...

बगहा में बनेगा रैक प्वाइंट, रेल अधिकारियों ने मिल प्रबंधन से की बातचीत

Publish Date:Sun, 20 Sep 2020 12:11 AM (IST) बगहा । बगहा में रैक प्वाइंट का निर्माण होगा। इसको लेकर रेलवे प्रशासन में सुगबुगाहट प्रारंभ हो...