Advertisements
Home कोरोना वायरस दुनिया को कोरोना वायरस वैक्‍सीन का इंतजार, रूसी अरबपतियों ने अप्रैल में...

दुनिया को कोरोना वायरस वैक्‍सीन का इंतजार, रूसी अरबपतियों ने अप्रैल में ही लगवा लिया टीका

Advertisements

Russia Covid-19 Vaccine Update: कोरोना वायरस से पूरी दुनिया जूझ रही है। इस बीच एक बड़ा खुलासा हुआ है क‍ि रूस के अरबपतियों ने अप्रैल महीने में ही कोरोना वायरस का टीका लगवा ल‍िया था। रूस की यह वैक्‍सीन अब अपने तीसरे और अंतिम ट्रायल में है।

Edited By Shailesh Shukla | एजेंसियां | Updated:

क्या रूस ने तैयार कर ली कोरोना वैक्सीन?
हाइलाइट्स

  • दुनियाभर में किलर कोरोना वायरस की वैक्‍सीन के लिए जद्दोजहद जारी है
  • अब तक 6 लाख लोगों की जान ले चुके कोरोना वायरस से 196 देश परेशान हैं
  • इस बीच रूस के अरबपतियों ने अप्रैल में ही कोरोना का टीका लगवा लिया था

मास्‍को

दुनिया में कोरोना वायरस की वैक्‍सीन के लिए जद्दोजहद जारी है। अब तक 6 लाख लोगों की जान ले चुके कोरोना वायरस से दुनिया के 196 देश परेशान है। इस बीच रूस (Russia Covid-19 Vaccine) ने दावा किया है कि उसने कोरोना वायरस की वैक्‍सीन का इंसानों पर ट्रायल पूरा कर लिया है। रूस की इस वैक्‍सीन को लेकर अब एक बड़ा खुलासा हुआ है। रूस के अरबपतियों ने अप्रैल महीने में ही कोरोना का टीका लगवा लिया था।

ब्‍लूमबर्ग की रिपोर्ट के मुताबिक रूस के अरबपतियों और राजनेताओं को कोरोना वायरस की प्रायोगिक वैक्‍सीन को अप्रैल में ही दे दिया गया था। इस पूरे मामले से जुड़े सूत्रों ने बताया कि जिन अमीरों को यह वैक्‍सीन दी गई, उनमें एल्युमीनियम की विशाल कंपनी यूनाइटेड रसेल के शीर्ष अधिकारी, अरबपति और सरकारी अधिकारी शामिल हैं। इस वैक्‍सीन को मास्‍को स्थित रूस की सरकारी कंपनी गमलेया इंस्‍टीट्यूट ने अप्रैल में तैयार किया था।

वैक्‍सीन को रूस की सेना ने वित्‍तीय मदद दी

गमलेई वैक्‍सीन को रूस की सेना और सरकारी रसियन डायरेक्‍ट इन्‍वेस्‍टमेंट फंड ने वित्‍तीय मदद दी थी। इस वैक्‍सीन का पिछले हफ्ते ही पहला ट्रायल पूरा हो गया है। यह टेस्‍ट रूस की सेना के जवानों पर किया गया है। इंस्‍टीट्यूट ने अब तक इसका रिजल्‍ट घोष‍ित नहीं किया है। इसमें 40 लोग शामिल थे। अब इस वैक्‍सीन का बड़े समूह पर ट्रायल किया जा रहा है।

मिडिल ईस्ट में होगा तीसरे फेज का ट्रायल

  • मिडिल ईस्ट में होगा तीसरे फेज का ट्रायल

    दिमित्रीव ने बताया कि अगस्त में हजारों लोगों के ऊपर तीसरे चरण का ट्रायल होना है। इससे पहले 3 अगस्त तक 100 लोगों पर ट्रायल को पूरा किया जाएगा। उन्होंने कहा है, ‘मौजूदा नतीजों के आधार पर हमें भरोसा है कि इसे रूस में अगस्त में अप्रूव कर दिया जाएगा और कुछ और देशों में सितंबर में जिससे यह पूरी दुनिया में अप्रूव होने वाली पहली वैक्सीन बन जाएगी।’ उनका कहना है कि तीसरे चरण का ट्रायल रूस के अलावा मिडिल ईस्ट के दो देशों में किया जाएगा। इसके लिए रूस सऊदी अरब से बात कर रहा है। सऊदी से इसके उत्पादन में साथ देने की बात भी की जा रही है।

  • Herd Immunity के लिए जरूरी डोज

    यह वैक्सीन मॉस्को के Gamaleya Institute में विकसित की गई है। क्लिनिकल ट्रायल के लिए यहां डोज तैयार की जा रही हैं जबकि प्राइवेट फार्मासूटिकल कंपनियां Alium (Sistema conglomerate) और R-Pharm बॉटलिंग का काम करेंगी। दोनों इस वक्त अपनी-अपनी लैब में अगले कुछ महीनों में उत्पादन की तैयारी कर रही हैं। दिमित्रीव ने बताया कि माना जा रहा है कि Herd Community के लिए रूस में 4-5 करोड़ लोगों को वैक्सीन देनी होगी। इसलिए हमें लग रहा है कि इस साल 3 करोड़ डोज तैयार करना सही होगा और हम अगले साल वैक्सिनेशन फाइनल कर सकेंगे। उन्होंने यह भी बताया है कि पांच देशों के साथ उत्पादन के लिए समझौते किए गए हैं और 17 करोड़ डोज बाहर बनाई जा सकती हैं।

  • Moderna Inc की वैक्सीन भी टेस्ट में पास

    इससे पहले अमेरिकी कंपनी Moderna Inc की कोरोना वायरस वैक्‍सीन भी अपने पहले ट्रायल में पूरी तरह से सफल रही। न्‍यू इंग्‍लैंड जर्नल ऑफ मेडिसिन में छपे अध्‍ययन में कहा गया है कि 45 स्‍वस्‍थ लोगों पर इस वैक्‍सीन के पहले टेस्‍ट के परिणाम बहुत अच्‍छे रहे हैं। इस वैक्‍सीन ने प्रत्‍येक व्‍यक्ति के अंदर कोरोना से जंग के लिए ऐंटीबॉडी विकसित किया। इस पहले टेस्‍ट में 45 ऐसे लोगों को शामिल किया गया था जो स्‍वस्‍थ थे और उनकी उम्र 18 से 55 साल के बीच थी। इसका इतना कोई खास साइड इफेक्‍ट नहीं रहा जिसकी वजह से वैक्‍सीन के ट्रायल को रोक दिया जाए।

  • Oxford की वैक्सीन का उत्पादन भी

    दिमित्रीव ने यह भी बताया कि रूस ने ब्रिटेन की ऑक्सफर्ड यूनिवर्सिटी की कोरोना वैक्सीन के देश में उत्पादन के लिए Astrazeneca के साथ डील की है। ऑक्सफर्ड की दवा में वॉलंटिअर्स में वायरस के खिलाफ प्रतिरोधक क्षमता विकसित होती पाई गई है। ऑक्सफर्ड के वैज्ञानिक न सिर्फ वैक्सीन ChAdOx1 nCoV-19 (अब AZD1222) के पूरी तरह सफल होने को लेकर आश्वस्त हैं बल्कि उन्हें 80% तक भरोसा है कि सितंबर तक वैक्सीन उपलब्ध हो जाएगी।

  • देखें- कोरोना: पहले टेस्‍ट में सफल रही अमेरिकी वैक्‍सीन

रूसी अधिकारियों ने यह नहीं बताया है कि रूसी राष्‍ट्रपति व्‍लादिमीर पुतिन को यह वैक्‍सीन दी गई है या नहीं। रूस में कोरोना वायरस के 7,50,000 मामले सामने आए हैं। रूस की गमलेई की वैक्‍सीन पश्चिमी देशों की तुलना में ज्‍यादा तेजी से आगे बढ़ रही है। तीन अगस्‍त से इस वैक्‍सीन का फेज 3 का ट्रायल शुरू होने जा रहा है। इसमें रूस, सऊदी अरब और यूएई के हजारों लोग हिस्‍सा लेंगे। माना जा रहा है कि रूस सितंबर तक कोरोना वायरस वैक्‍सीन अपने नागरिकों को दे देगा।

सितंबर से वैक्‍सीन का बड़े पैमाने पर प्रॉडक्‍शन

गमलेई सेंटर के हेड अलेक्जेंडर जिंट्सबर्ग ने सरकारी न्‍यूज एजेंसी TASS को बताया कि उन्‍हें उम्‍मीद है कि वैक्‍सीन 12 से 14 अगस्‍त के बीच ‘सिविल सर्कुलेशन’ में आ जाएगी। अलेक्‍जेंडर के मुताबिक, प्राइवेट कंपनियां सितंबर से वैक्‍सीन का बड़े पैमाने पर प्रॉडक्‍शन शुरू कर देंगी। गमलेई सेंटर हेड के मुताबिक, वैक्‍सीन ह्यूमन ट्रायल में पूरी तरह सेफ साबित हुई है। अगस्‍त में जब मरीजों को वैक्‍सीन दी जाएगी तो यह उसके फेज 3 ट्रायल जैसा होगा क्‍योंकि जिन्‍हें डोज मिलेगी, उनकी मॉनिटरिंग की जाएगी। फेज 1 और 2 में आमतौर पर किसी वैक्‍सीन/दवा की सेफ्टी जांची जाती है ताकि फेज 3 में बड़े ग्रुप पर ट्रायल किया जा सके।

रूस में अरबपतियों को लगा कोरोना वायरस का टीका

रूस में अरबपतियों को लगा कोरोना वायरस का टीका

Web Title russia covid 19 vaccine update russian billionaires got the coronavirus vaccine in april itself(Hindi News from Navbharat Times , TIL Network)

रेकमेंडेड खबरें

Source link

Advertisements

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Advertisements

लोकप्रिय

पाचन शक्ति का कमजोर होना शरीर को करता है प्रभावित, जानें कैसे बनाएं मजबूत

नई दिल्लीः मनुष्य को रोजाना अपने शरीर को एनर्जी देने के लिए भोजन की आवश्यकता होती है. ऐसे में...

वेस्टर्न एक्सप्रेस हाइवे पर मेट्रो चलाने की तैयारी तेज

मुंबईमुंबई में वेस्टर्न एक्सप्रेस हाइवे पर मेट्रो दौड़ाने का समय निर्धारित करने के बाद मुंबई महानगर प्रदेश विकास प्राधिकरण (एमएमआरडीए) ने अपनी तैयारी...