Advertisements
Home राज्यवार बिहार चुनाव से पहले बिहार में कास्ट पॉलिटिक्स, क्या जाति देख कर लोगों...

चुनाव से पहले बिहार में कास्ट पॉलिटिक्स, क्या जाति देख कर लोगों की मदद करती है नीतीश सरकार?

Advertisements
नीतीश सरकार पर जाति देख लोगों की मदद करने का आरोप लगा है. (फाइल फोटो)

बिहार (Bihar) में विधानसभा चुनाव (Assembly Election) से पहले कास्ट पॉलिटिक्स (Caste Politics) शुरू हो गई है.

पटना. बिहार (Bihar) में विधानसभा चुनाव (Assembly Election) से पहले कास्ट पॉलिटिक्स (Caste Politics) शुरू हो गई है. बिहार में जाति देख कर जनता की मदद करने का आरोप नीतीश कुमार (Nitish Kumar) सरकार लगा है. ये आरोप जन अधिकार पार्टी के अध्यक्ष पप्पू यादव ने लगाया है. गोपालगंज, बेतिया में बाढ़ प्रभावित इलाक़ों में फंसे लोगों को देखने पहुंचे पप्पू यादव ने ये आरोप लगाया कि गोपालगंज के दियारा इलाक़ा बाढ़ से सबसे ज़्यादा प्रभावित है और इन इलाक़ों में एक ख़ास जाति के लोग (यादव) सबसे ज़्यादा प्रभावित हुए हैं, लेकिन इन लोगों तक जो मदद पहुंचनी चाहिए थी, वो मदद नहीं पहुंच पा रही है. लोग पानी में घिरे हैं. घर, खेती बाड़ी, पशु मवेशी सब का भारी नुक़सान हुआ है. लोग मदद की आशा लगाए हुए हैं, लेकिन उन तक मदद नहीं पहुंच पा रही है.

पप्पू यादव बीते रविवार को गोपालगंज गए थे. पप्पू ने कहा कि ‘नीतीश सरकार के लिए ये उनके वोटर नहीं माने जाते हैं. इसी लिए उन तक सरकारी मदद नहीं पहुंच पा रही है, लेकिन कोई भी सरकार अगर ऐसा करती है तो ये लोक तंत्र के लिए ठीक नहीं है’. कुछ ऐसा ही आरोप राजद के किसान सेल के प्रदेश अध्यक्ष अरुण सिंह लगाते हैं. अरुण सिंह कहते हैं कि ‘दियारा में रहने वाले लोगों कें हालात बाढ़ से बेहद ख़राब हुए हैं. दियारा इलाक़े में रहने वाले लोगों का पेशा जानवर पालना और खेती बारी मुख्य रूप से है, लेकिन इन लोगों तक सरकार की मदद नहीं पहुच पा रही है. इन लोगों के मदद नहीं पहुंचने के पीछे एक वजह ये भी है की ये लोग राजद समर्थक माने जाते हैं और एक ख़ास जाति (यादव) के लोग हैं.

ये भी पढ़ें: बिहार पुलिस के जवान को अपराधियों ने मारी गोली, गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती

हर किसी को मदद का दावागोपालगंज के डीएम अरशद अज़ीज़ से इस दियारा इलाक़े में रहने वाले लोगों के शिकायत के बारे में पूछा तो ज़िला धिकारी ने बताया की प्रशासन हर किसी को मदद पहुंचा रहा है, जो लोग दियारा इलाक़े में रहते है उन्हें सुरक्षित स्थान पर आने के लिए लगातार बोला जा रहा है, लेकिन कई लोग नहीं आ रहे हैं. फिर भी प्रशासन उन तक हर संभव मदद पहुंचा रही है. जेडीयू नेता और पूर्व विधायक मंजित सिंह पप्पू यादव और राजद के आरोप पर पलटवार करते हुए कहते हैं, ‘राजद और पप्पू यादव जैसे नेता जाति की राजनीति करने के लिए ही जाने जाते हैं, लेकिन नीतीश कुमार हर जाति हर वर्ग और धर्म के लिए काम करते है. नीतीश सरकार का एक ही फ़लसफ़ा है सबका साथ-सबका विकास. जो लोग भी जाति देख मदद का आरोप लगाते है दर असल चुनाव देख इस तरह के बयान दे रहे हैं, लेकिन जनता सब देख और समझ रही है.



Source link

Advertisements

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Advertisements

लोकप्रिय

राज्य सभा सदस्य ने उच्च क्षमता के डैम निर्माण का उठाया मुद्दा

Publish Date:Sat, 19 Sep 2020 01:05 AM (IST) बगहा । हर साल बाढ़ का दंश झेल रहे प्रदेश को बाढ़ मुक्त करने को लेकर राज्यसभा...