Advertisements
Home राज्यवार मुंबई कोरोना का असर, एयरपोर्ट पर खूब हल्दी दूध पी रहे यात्री

कोरोना का असर, एयरपोर्ट पर खूब हल्दी दूध पी रहे यात्री

Advertisements

Edited By Shashi Mishra | टाइम्स न्यूज नेटवर्क | Updated:

हल्दी दूध (सांकेतिक चित्र)
हाइलाइट्स

  • कोरोना वायरस के चलते बदल गया लोगों का खानपान
  • देश के एयरपोर्टस के फूड आउटलेट्स भी बदल गए
  • फूड आउटलेट्स पर इम्युनिटी बूस्टर पेय पदार्थों से डिमांड बढ़ी
  • हल्दी दूध, शिकंजी, सत्तू शेख जैसे पेय पदार्थ पी रहे लोग
  • कुछ एयरपोर्ट्स पर दही चावल की डिमांड भी हो रही है

मुंबई

मई में मुंबई से जब घरेलू उड़ानें शुरू हुईं तो अधिकांश डोमेस्टिक फ्लाइट्स के किचन के पेय बदले हुए थे। यात्रियों को हल्दी दूध, रसम, तुलसी मिंट शिकंजी, सत्तू शेक और आमला आम पन्ना दिया जाना शुरू किया गया। लोगों को इम्युनिटी बूस्ट करने वाले खाद्य और पेय पदार्थ अब मेट्रो एयरपोर्ट्स पर भी मिलेंगे।

एयरपोर्ट के लॉन्ज में कोरोना वायरस से बचाव के लिए बंद खाद्य और पेयर पदार्थों को पैकेट्स दिए जा रहे हैं। कई उड़ान भरने वाले यात्री घर के बने खाने को प्राथमिकता दे रहे हैं। एयरपोर्ट पर आने वाले यात्री मेट्रो एयरपोर्ट्स पर पेय और खाद्य पदार्थों में बड़ा बदलाव पा रहे हैं।

इम्युनिटी बूस्टर पेय की बढ़ी मांग

विभिन्न मेट्रो एयरपोर्टस पर 300 से ज्यादा फूड आउटलेट्स चलाने वाले चीफ ऑपरेटिंग ऑफिसर गौरव दीवान ने बताया कि हल्दी और विटामिन सी पेय चाय और कॉफी जैसे कैफीनयुक्त पेय को भले ही न हरा पाया हो लेकिन बीते दो महीनों से ऐसे इम्युनिटी बूस्टर पेयों को प्रसिद्धी मिल रही है।

कोरोना मामलों पर कांग्रेस का बीजेपी पर तंजकोरोना मामलों पर कांग्रेस का बीजेपी पर तंज

हल्दी दूध की डिमांड

गौरव ने बताया कि मेट्रो सिटीज के एयरपोर्ट्स में खान-पान बदल गया है। दिल्ली एयरपोर्ट पर हल्दी दूध तीसरे नंबर का पेय पदार्थ है, जो सबसे ज्यादा बिक रहा है। इसके अलावा कोलकोता एयरपोर्ट पर तुलसी-पुदीना शिकंजी पसंद की जा रही है। चेन्नै एयरपोर्ट पर रसम की ज्यादा मांग है। इम्युनिटी बूस्टर की ज्यादा मांग है। उन्होंने कहा कि अब हम लोग ऐसे इम्युनिटी बूस्टर पेय पदार्थों को बोतल में पैक करके बेचने की तैयारी कर रहे हैं।

दही चावल की भी बढ़ी डिमांड

देश के एयरपोर्ट्स में दही चावल की भी मांग है। गौरव ने बताया, ‘दही चावल हल्का खाना होता है और यह हेल्दी भी होता है। दक्षिण भारत में दही चावल की बिक्री रोज कोरोना वायरस से पहले मात्र 2 से 3 फीसदी थी। अब यह बढ़कर 15 से 20 फीसदी हो गई है। हालांकि मैं यह दावे से हीं कह सकता हूं कि यह यात्रियों की प्रोफाइल के कारण है या कोरोना वायरस के कारण।’

ऑर्डर के तरीके में आया बदलाव

कोरोना के बाद से नॉन वेजिटेरियन खाने की डिमांड खत्म हो गई है। कोरोना ने एयरपोर्ट्स पर खान-पान का सीन बदल दिया है। यहां तक कि लोगों के खाने का ऑर्डर देने के तरीके में भी बदलाव आया है। अब यहां पर कर्मचारी आईपैड लेकर घूमते हैं। वह लोगों से खाने का ऑर्डर लेते हैं। क्यूआर कोड स्कैन करते हैं। ऑनलाइन पेमेंट होता है और उन्हें खाना पहुंचा दिया जाता है।

कोरोना: हफ्ते में चार दिन नए केसेज ने तोड़े रेकॉर्ड्सकोरोना: हफ्ते में चार दिन नए केसेज ने तोड़े रेकॉर्ड्स

Source link

Advertisements

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Advertisements

लोकप्रिय