Advertisements
Home क्राइम पश्चिम बंगाल: लड़की का शव मिलने से दिनाजपुर में भड़की हिंसा, रेप...

पश्चिम बंगाल: लड़की का शव मिलने से दिनाजपुर में भड़की हिंसा, रेप के बाद हत्या की आशंका

Advertisements


लोगों ने वाहनों में आग लगा दी&nbsp | &nbspतस्वीर साभार:&nbspANI

मुख्य बातें

  • उत्तरी दिनाजपुर में लड़की की बलात्कार के बाद हत्या को लेकर प्रदर्शन

  • प्रदर्शनकारियों को हटाने के लिए रैपिड एक्शन बल समेत अतिरिक्त बल मौके पर बुलाया गया

  • तीन बसों को आग लगा दी गई। साथ में पुलिस की तीन गाड़ियों को भी फूंक दिया गया

नई दिल्ली: पश्चिम बंगाल के उत्तर दिनाजपुर के कालागाछ में एक नाबालिग  लड़की के साथ कथित तौर पर सामूहिक बलात्कार और फिर उसकी हत्या के खिलाफ स्थानीय लोगों ने विरोध प्रदर्शन किया। लोगों ने रोड ब्लॉक क्या और पुलिस के वाहनों के साथ और भी सार्वजनिक बसों को आग लगा दी। हालात पर काबू पाने के लिए भारी संख्या में सुरक्षाबल तैनात करने पड़े। इस दौरान सुरक्षाकर्मियों और स्थानीय लोगों के बीच झड़प हुई। सुरक्षा बलों ने प्रदर्शनकारियों को तितर-बितर करने के लिए आंसू गैस के गोले दागे।

मामले पर पश्चिम बंगाल के मंत्री गौतम देब ने कहा, ‘ये बहुत दुखद घटना है। हम इसका राजनीतिकरण नहीं करना चाहते हैं। जांच की जाएगी और दोषियों को कानून के अनुसार दंडित किया जाएगा। हम पीड़ित परिवार से मिलेंगे।’

वहीं विपक्षी भाजपा ने कहा कि लड़की एक स्थानीय पार्टी नेता की बहन थी और टीएमसी नेता द्वारा उसका बलात्कार किया गया और हत्या की गई। हालांकि सत्तारूढ़ टीएमसी ने आरोपों को खारिज कर दिया है और भाजपा पर ‘लोगों के एक वर्ग को उकसाने और शांति भंग करने’ की कोशिश करने का आरोप लगाया है। 

पेड़ के पास मिला शव

बताया जाता है कि 15 साल की लड़की को पहले अगवा किया गया और फिर दूसरी जगह ले जाया गया जहां उसके साथ बलात्कार किया गया और फिर मरने के लिए छोड़ दिया गया। उसका शव सोनारपुर इलाके में एक बरगद के पेड़ के पास मिला। उसके परिवार ने आरोप लगाया कि लड़की के साथ सामूहिक बलात्कार किया गया और बाद में हत्या की गई। मृतका की बड़ी बहन ने कहा, ‘मेरी बहन शनिवार रात से लापता थी। पूरी रात उसकी तलाश करने के बाद हमें उसका शव सुबह एक बरगद के पेड़ के पास मिला। उसके मुंह में जहर था। उसका बलात्कार किया गया था।’ 

संबंधित खबरें

लोगों में गुस्सा

नाबालिग का शव मिलने के बाद स्थानीय लोगों ने पीड़िता को न्याय दिलाने की मांग को लेकर राष्ट्रीय राजमार्ग 31 को जाम कर दिया। उन्होंने कहा कि वे तब तक विरोध जारी रखेंगे जब तक अपराधियों को पकड़कर दंडित नहीं किया जाता। इस दौरान बसों और पुलिस वाहन को निशाना बनाया। सड़क पर टायरों में आग लगा दी गई और आंसू गैस के गोले दागने वाले पुलिसकर्मियों पर पथराव किया गया।

पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद पुलिस ने मौत का कारण ‘जहर का असर’ बताया और कहा कि शारीरिक या यौन हमले के कोई संकेत नहीं थे। अभी तक कोई गिरफ्तारी नहीं की गई है।



Source link

Advertisements

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Advertisements

लोकप्रिय

अर्थराइटिस के मरीजों को ज्यादा होता है डायबिटीज का खतरा, जानिये

Arthritis and Diabetes: शारीरिक असक्रियता व अनहेल्दी खानपान के कारण बढ़ती उम्र की बीमारियों से आज के युवा भी घिर रहे हैं। अर्थराइटिस भी...

UN में चीन पर बरसे ट्रंप, कोरोना संक्रमण के लिए ठहराया जिम्मेदार, बोले-WHO पर भी इसका कब्जा

न्यूयॉर्कसंयुक्त राष्ट्र की स्थापना के 75 साल पूरे होने के अवसर पर राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने चीन को खूब खरीखोटी सुनाई है। उन्होंने अपने...