Advertisements
Home राज्यवार उत्तर प्रदेश कोरोनाः यूपी में होम क्वारनटीन व्यवस्था जल्द, सीएम ने SOP बनाने के...

कोरोनाः यूपी में होम क्वारनटीन व्यवस्था जल्द, सीएम ने SOP बनाने के दिए निर्देश

Advertisements
  • सीएम ने लखनऊ में अधिकारियों के साथ की बैठक
  • बैठक में कोरोना से निपटने के लिए दिए कई निर्देश

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रविवार को राज्य में कोरोना के हालात का जायजा लेने के लिए बैठक की. मीटिंग में उन्होंने प्रशासनिक अधिकारियों को कोरोना से निपटने के लिए कई निर्देश दिए. मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना संक्रमण रोकने के लिए डोर टू डोर सर्वे के काम में कोई भी कोताही न की जाए.

प्रशासनिक सूत्रों ने बताया कि यूपी में भी जल्द होम क्वारनटीन की व्यवस्था शुरू हो सकती है. सीएम योगी आदित्यनाथ ने स्वास्थ्य विभाग को इसकी SOP तैयार करने के लिए निर्देश दिए हैं.

बहरहाल, मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना से संबंधित सभी सेवाओं और गतिविधियों को इंटीग्रेटेड कमांड और कंट्रोल सेंटर से जोड़ा जाए. मुख्य सचिव डीजी हेल्थ की तत्काल नियुक्ति करें. सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि मरीज की स्थिति के अनुसार उसे लखनऊ के राम मनोहर लोहिया, एसजीपीजीआई, केजीएमयू और L1,L2 या L3 अस्पताल में भर्ती किया जाए.

कोरोना पर फुल कवरेज के लि‍ए यहां क्ल‍िक करें

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अफसरों को निर्देश दिए कि लोक बंधु अस्पताल में बिस्तरों की संख्या को बढ़ाकर 200 किया जाए. इसके अलावा सीएम ने सिविल अस्पताल, लोकबंधु, बलरामपुर और राम मनोहर लोहिया अस्पताल के प्रभारी चिकित्सकों से स्थिति की जानकारी ली.

सीएम ने कहा कि पीजीआई के निदेशक, आरएमएल अस्पताल, सिविल अस्पताल, लोकबंधु और बलरामपुर अस्पताल के प्रभारियों के साथ बैठक कर कोविड-19 के इलाज संबंधी एक मानक संचालन प्रक्रिया यानी SOP तैयार करें.

कोरोना कमांडोज़ का हौसला बढ़ाएं और उन्हें शुक्रिया कहें…

मुख्यमंत्री ने निर्देश दिया कि राज्य में शनिवार और रविवार को व्यापक स्तर पर स्वच्छता और सैनिटाइजेशन का अभियान चलाया जाए. सरकारी कार्यालयों में कोविड-19 के लिए डेस्क की स्थापना की जाए. कोरोना के संबंध में शासन द्वारा जारी गाइडलाइंस का पालन सुनिश्चित किया जाए.

देश-दुनिया के किस हिस्से में कितना है कोरोना का कहर? यहां क्लिक कर देखें

योगी आदित्यनाथ ने कहा कि कोरोना संदिग्ध मरीज का रैपिड एंटीजन टेस्ट हो और संक्रमित मरीज को उसकी स्थिति के अनुसार L1,L2 तथा L3 अस्पतालों में भेजा जाए. कंटेनमेंट जोन में पूरी सतर्कता और सख्ती बरती जाए. आईएमए और नर्सिंग एसोसिएशन के साथ जिला प्रशासन हर सप्ताह बैठक करे ताकि स्थिति की समीक्षा की जा सके.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें

  • Aajtak Android IOS



Source link

Advertisements

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Advertisements

लोकप्रिय