Advertisements
Home राज्यवार उत्तर प्रदेश नया खुलासा : विकास दुबे के गैंग में बर्खास्त दो सिपाही भी...

नया खुलासा : विकास दुबे के गैंग में बर्खास्त दो सिपाही भी थे शामिल, दोनों के मोबाइल नंबर से मिले कनेक्शन

Advertisements

हिस्ट्रीशीटर विकास के गैंग में दो बर्खास्त सिपाहियों के शामिल होने की सूचना भी एसटीएफ को मिली है। यह दोनों घटना के दिन यहां मौजूद नहीं थे मगर पुलिस की कार्यप्रणाली को लेकर इन्होंने विकास की कई बार मदद की थी। इसके अलावा अवैध असलहा कहां से और कैसे मिलेंगे, इसकी जानकारी भी दोनों समय-समय पर देते रहते थे। विकास की सीडीआर में एसटीएफ को दोनों के नम्बर मिले हैं। इनके बारे में और जानकारी जुटाई जा रही है।

 दुबे के एनकाउंटर के बाद पुलिस उसके नेटवर्क को लेकर पड़ताल में लगी है। आठ पुलिसकर्मियों की हत्या के आरोपित 11 गुर्गे फरार हैं। उनकी तलाश में एसटीएफ और पुलिस की टीमें लगातार काम कर रही हैं। इसी दौरान विकास की सीडीआर पर काम करने वाली एसटीएफ टीम को दो संदिग्ध नम्बर मिले। इन नम्बरों की पड़ताल की गई तो यह दो बर्खास्त सिपाहियों के निकले। जिन्हें सालों पहले फोर्स से निकाल दिया गया था। वर्तमान में इन दोनों के पते पुलिस के हाथ नहीं लग सके हैं मगर दोनों की विकास से कई बार बात हुई है इसके बारे में जानकारी मिली है। 

यह भी पढ़ें : विकास दुबे की पत्नी, पिता, भाई और नौकर सबके नाम पर बने शस्त्र लाइसेंस

एसटीएफ सूत्रों के मुताबिक दोनों सिपाही घटना के दिन यहां मौजूद नहीं थे। न ही उसके बाद विकास से इनकी बातचीत का कोई रिकॉर्ड मिला है। हालांकि घटना से पहले कई बार इन लोगों  की बातचीत के रिकॉर्ड मिले हैं जिन्हें वेरीफाई कराया जा रहा है। दोनों बर्खास्त सिपाहियों के बारे में जानकारी मिली है कि वह विकास से कई साल से सम्पर्क में थे। पुलिसिया हथकंडों के बारे में यह दोनों भी विकास से सूचनाएं साझा करते थे। इसके अलावा अपने नेटवर्क के जरिए वह दुबे को अवैध असलहा दिलवाने का भी काम करते थे। पुलिस अधिकारियों के मुताबिक इन दोनों की तलाश जारी है। इनकी गिरफ्त में आने के बाद विकास के नेटवर्क के बारे में और भी तथ्यों के बारे में जानकारी होगी।

विकास दुबे के साथियों पर कसा और शिकंजा :

हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे के एनकाउंटर के बाद कानपुर के ब्रह्मनगर में रहने वाले कारोबारी जय बाजपेई और करीबियों पर शिकंजा कसने लगा है। चंद वर्षों में चार हजार रुपए की नौकरी से अरबपति बने जयकांत की संपत्तियों, बैंक खातों और नकद लेन-देन की जांच आयकर विभाग की बेनामी विंग (शाखा) और आयकर निदेशालय (जांच) ने शुरू कर दी है।

आय के स्रोत की जांच होगी
जय की कानपुर में खरीदी गई सम्पतियों के स्रोत क्या हैं, इसकी जांच अलग टीम कर सकती है। साथ ही 50 हजार रुपए सालाना कमाने वाला व्यक्ति 7 साल में 12 लाख का आईटीआर कैसे भरने लगा, इसे भी जांच में शामिल किया गया है। आयकर विभाग उन जांच रिपोर्टों पर भी गौर कर सकता है जो स्थानीय प्रशासन की ओर से बीच में कराई गई थी।



Source link

Advertisements

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Advertisements

लोकप्रिय

ड्रग्स मामले में नाम आने पर भड़कीं दीया मिर्जा, ट्वीट कर कही ये बात

नई दिल्ली: ड्रग्स मामले में दीया मिर्जा ने अपने ऊपर लगाए जा रहे आरोपों को खारिज किया है. दीया मिर्जा ने मंगलवार शाम को...

Prediabetes diet: प्रीडायबिटीज के मरीज कंट्रोल में रखें अपना ब्लड शुगर, फॉलो करें ये खास प्रीडायबिटीज डाइट

प्री-डायबिटीज यानी डायबिटीज का खतरा भविष्य में हो सकता है यदि अपनी जीवनशैली को ना बदला जाए तो। प्री डायबिटीज के मरीजों में ब्लड...