Advertisements
Home स्वास्थ्य विटामिन-D की कमी से हो सकती हैं कैंसर, गठिया, कोविड-19 जैसी 5...

विटामिन-D की कमी से हो सकती हैं कैंसर, गठिया, कोविड-19 जैसी 5 गंभीर बीमारियां, तुरंत खाना शुरू कर दें ये 6 चीजें

Advertisements

Highlightsहड्डियों को मजबूत रखने के साथ-साथ समग्र स्वास्थ्य के लिए जरूरी हैभारत में सभी आयु वर्ग के 80-90% लोग विटामिन डी की कमी से पीड़ितशरीर को लगभग 90% विटामिन डी की जरूरत

विटामिन डी हड्डियों को मजबूत रखने के साथ-साथ समग्र स्वास्थ्य के लिए जरूरी है। यह एक महत्वपूर्ण कारक है जो मांसपेशियों, दिल, फेफड़ों और मस्तिष्क के लिए आवश्यक है। साथ ही आपका शरीर इसकी मदद से संक्रमण से भी लड़ सकता है।

साल 2018 में जर्नल ऑफ फैमिली मेडिसिन और प्राइमरी केयर में प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार, भारत में सभी आयु वर्ग के 80-90% लोग विटामिन डी की कमी से पीड़ित हैं। 

आपको बता दें कि विटामिन डी एक पोषक तत्व के साथ शरीर में बनने वाला हार्मोन भी है। विटामिन डी एक घुलनशील विटामिन के समूह में आता है यानी यह वसा कोशिकाओं में संचित रहता है और लगातार कैल्शियम के चयापचय और हड्डियों के निर्माण में उपयोगी होता है। यह शरीर में कैल्शियम तथा फॉस्फेट के अवशोषण को बढ़ाता है।

शरीर की कितने विटामिन डी की जरूरत होती है

ऐसा माना जाता है कि शरीर को लगभग 90% विटामिन डी की जरूरत होती है। यह तब संभव हो सकता है, जब आप पर्याप्त धूप और ऐसे खाद्य पदार्थ को नियमित सेवन कर रहे हों, जिनमें विटामिन की भरपूर मात्रा हो।

Vitamin D and your health: Breaking old rules, raising new hopes ...

विटामिन डी कमी से होने वाले रोग

हड्डियों के कमजोर होने का खतरा 
बच्चों में गंभीर विटामिन डी की कमी से रिकेट्स हो सकता है, जबकि यह वयस्कों में ऑस्टियोपोरोसिस या ऑस्टियोमलेशिया का कारण बनता है। इन स्थितियों को कमजोर, नरम हड्डियों, कंकाल की विकृति, मांसपेशियों की कमजोरी आदि द्वारा चिह्नित किया जाता है। इसकी कमी से हड्डियां अत्यधिक दुर्बल हो सकती हैं।

संक्रमण का खतरा
विटामिन डी की कमी प्रतिरक्षा प्रणाली को कमजोर कर देती है, जिससे संक्रमण के चपेट में आना आसान हो जाता है। इस पोषक तत्व की कमी वाले लोगों को वायरल अपर रेस्पिरेटरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन ( कोविड-19 सहित), टीबी आदि के शिकार होने की संभावना अधिक होती है।

कैंसर
विटामिन डी कोशिका वृद्धि और स्वास्थ्य को नियंत्रित करता है। कम विटामिन डी के स्तर को कई प्रकार के कैंसर से जोड़ा गया है, जिसमें फेफड़े, स्तन, कोलोरेक्टल, प्रोस्टेट, डिम्बग्रंथि, अग्नाशय और ऑसोफेगल कैंसर शामिल हैं।

ऑटोइम्यून डिजीज 
विटामिन डी इम्यूनिटी सिस्टम को बढ़ाकर ऑटोइम्यून रोगों के जोखिम को कम करता है। इसके विपरीत, विटामिन डी की कमी वाले लोगों में रुमेटीइड गठिया, मल्टीपल स्केलेरोसिस, ल्यूपस और सोराइसिस जैसी ऑटोइम्यून बीमारियों के विकास का खतरा अधिक होता है।

हृदय रोग
गंभीर विटामिन डी की कमी उन लोगों में देखी जाती है, जिन्हें हृदय संबंधी बीमारियां हैं, विशेष रूप से मायोकार्डियल इन्फ्रक्शन के साथ। शरीर में उच्च विटामिन डी स्तर का मतलब हृदय रोगों के विकास के जोखिम को कम करता है।

विटामिन डी की कमी के लिए क्या खायें

How Vitamin D Affects Fertility | ConceiveAbilities 
ओपर बताये गए खतरों को कम करने और बचने के लिए आपको नियमित रूप से विटामिन डी से भरपूर खाद्य पदार्थों का सेवन करना चाहिए। इसके लिए आप अपनी डाइट में दूध, पनीर और दही, वसायुक्त मछली, अंडे और मशरूम जैसे डेयरी उत्पादों को शामिल कर सकते हैं। इसके अलावा आपको सुबह की धूप लेनी चाहिए।

English summary :
Vitamin D is also a hormone produced in the body along with a nutrient. Vitamin D belongs to a group of soluble vitamins, that is, it is stored in fat cells and is useful in the metabolism of calcium and building bones. It increases the absorption of calcium and phosphate in the body.

Web Title: Vitamin D Deficiency: what is vitamin d, food and sources of vitamin d, Vitamin D deficiency can lead to cancer, arthritis, heart disease, covid-19, infection
स्वास्थ्य से जुड़ी हिंदी खबरों और देश दुनिया की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे. यूट्यूब चैनल यहाँ सब्सक्राइब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करे



Source link

Advertisements

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Advertisements

लोकप्रिय