Advertisements
Home राज्यवार दिल्ली सुप्रीम कोर्ट ने वृद्धाश्रमों में पीपीई किट और मास्क देने के दिए...

सुप्रीम कोर्ट ने वृद्धाश्रमों में पीपीई किट और मास्क देने के दिए निर्देश

Advertisements

अमर उजाला, नेटवर्क, दिल्ली
Updated Wed, 05 Aug 2020 08:04 AM IST

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें

बुजुर्गों को समय पर दी जाए पेंशन
कोर्ट ने मंगलवार को कहा कि बुजुर्गों की पेंशन समय पर दी जानी चाहिए और देशभर में वृद्धाश्रमों रहने वाले लोगों को पीपीई किट, सैनिटाइजर और फेस मास्क मुहैया कराए जाएं। कोरोना महामारी के समय बुजुर्गों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है और प्रशासन को उन्हें मदद मुहैया करानी चाहिए। जहां भी जरूरत हो, मदद पहुंचाई जाए।  
जस्टिस अशोष भूषण की अध्यक्षता वाली पीठ ने पूर्व केंद्रीय मंत्री और वरिष्ठ वकील अश्विनी कुमार की याचिका पर सुनवाई की।

पीठ ने राज्यों को याचिका पर जवाब दाखिल करने का दिया निर्देश
कुमार ने पीठ को बताया, देश में करोड़ों बुजुर्ग अकेले रह रहे हैं और जो लोग पेंशन के पात्र हैं और जिनकी पहचान हो चुकी है, उन्हें समय पर पेंशन पहुंचाने के उचित निर्देश जारी होने चाहिए। इस पर केंद्र सरकार की ओर से पेश वरिष्ठ वकील वी मोहन ने कहा, राज्य इस दिशा में काम कर रहे हैं और यह कोई अलग मुद्दा नहीं है। मोहन ने याचिका पर जवाब देने के लिए एक सप्ताह का समय मांगा। इसके साथ ही पीठ ने एक अन्य याचिका पर भी सुनवाई की, जिसमें कोरोना संक्रमित बुजुर्गों का बिना भेदभाव इलाज करने का निर्देश देने की मांग की गई है। इस पर पीठ ने राज्यों को याचिका पर जवाब दाखिल करने का निर्देश दिया।

 

बुजुर्गों को समय पर दी जाए पेंशन

कोर्ट ने मंगलवार को कहा कि बुजुर्गों की पेंशन समय पर दी जानी चाहिए और देशभर में वृद्धाश्रमों रहने वाले लोगों को पीपीई किट, सैनिटाइजर और फेस मास्क मुहैया कराए जाएं। कोरोना महामारी के समय बुजुर्गों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है और प्रशासन को उन्हें मदद मुहैया करानी चाहिए। जहां भी जरूरत हो, मदद पहुंचाई जाए।  

जस्टिस अशोष भूषण की अध्यक्षता वाली पीठ ने पूर्व केंद्रीय मंत्री और वरिष्ठ वकील अश्विनी कुमार की याचिका पर सुनवाई की।

पीठ ने राज्यों को याचिका पर जवाब दाखिल करने का दिया निर्देश
कुमार ने पीठ को बताया, देश में करोड़ों बुजुर्ग अकेले रह रहे हैं और जो लोग पेंशन के पात्र हैं और जिनकी पहचान हो चुकी है, उन्हें समय पर पेंशन पहुंचाने के उचित निर्देश जारी होने चाहिए। इस पर केंद्र सरकार की ओर से पेश वरिष्ठ वकील वी मोहन ने कहा, राज्य इस दिशा में काम कर रहे हैं और यह कोई अलग मुद्दा नहीं है। मोहन ने याचिका पर जवाब देने के लिए एक सप्ताह का समय मांगा। इसके साथ ही पीठ ने एक अन्य याचिका पर भी सुनवाई की, जिसमें कोरोना संक्रमित बुजुर्गों का बिना भेदभाव इलाज करने का निर्देश देने की मांग की गई है। इस पर पीठ ने राज्यों को याचिका पर जवाब दाखिल करने का निर्देश दिया।

 

Source link

Advertisements

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Advertisements

लोकप्रिय

अनुराग कश्यप बोले- रवि किशन लंबे समय तक वीड का सेवन करते रहे और यह पूरी दुनिया को मालूम, रवि का जवाब- उनकी तबीयत ठीक नहीं है

2 घंटे पहलेकॉपी लिंकरवि किशन ने अनुराग कश्यप के साथ फिल्म 'मुक्काबाज' (2017) में काम किया था।रवि किशन ने पिछले दिनों यह दावा किया...

लालच में गंवा सकते हैं लाखों रुपये

मुंबईबोरीवली के साईं बाबा नगर में रहने वाले 36 वर्षीय रामचंद्र पांडेय के मोबाइल पर करीब 15 दिन पहले किसी अनजान व्यक्ति का एक...