Advertisements
Home कोरोना वायरस ये रिपोर्ट कहती है, भारतीय अर्थव्यवस्था के सबसे बुरे दिन लगता है...

ये रिपोर्ट कहती है, भारतीय अर्थव्यवस्था के सबसे बुरे दिन लगता है बीत चुके

Advertisements

Edited By Anuj Maurya | आईएएनएस | Updated:

हाइलाइट्स

  • आर्थिक मामलों के विभाग (डीईए) की मासिक आर्थिक रिपोर्ट जारी हुई है
  • इसके अनुसार लगता है कि अर्थव्यवस्था का सबसे बुरा वक्त बीत चुका है, क्योंकि प्रमुख संकेतकों में सुधार दिख रहा है
  • कोविड-19 के बढ़ते मामलों और राज्यों में बीच-बीच में हो रहे लॉकडाउन के कारण जोखिम की स्थिति बनी हुई है

नई दिल्ली

देश में चरणबद्ध तरीके से अनलॉक की प्रक्रिया चल रही है और आर्थिक गतिविधियों को क्रमबद्ध तरीके से अनुमति दी जा रही है। ऐसे में आर्थिक मामलों के विभाग (डीईए) की मासिक आर्थिक रिपोर्ट में कहा गया है कि लगता है अर्थव्यवस्था का सबसे बुरा वक्त बीत चुका है, क्योंकि प्रमुख संकेतकों में सुधार दिख रहा है। मंगलवार को जारी जुलाई की रिपोर्ट में कहा गया है कि औद्योगिक उत्पादन सूचकांक (आईआईपी), पर्चेजिंग मैनेजर इंडेक्स (पीएमआई), विद्युत उत्पादन, इस्पात और सीमेंट उत्पादन, रेलवे माल ढुलाई, प्रमुख बंदरगाहों पर यातायात, ई-वे बिल जनरेशन के अलावा अन्य संकेतक दिखाते हैं कि आर्थिक गतिविधियां जोर पकड़ ली हैं।

रिपोर्ट में कहा गया है, ‘‘भारत में अनलॉकिंग के साथ लगता है सबसे बुरा वक्त समाप्त हो गया, क्योंकि उच्च तीव्रता वाले संकेतक अप्रैल 2020 में बुरी तरह प्रभावित हुई अर्थव्यवस्था में सुधार दिखाते हैं।’’ रिपोर्ट में हालांकि कहा गया है कि कोविड-19 के बढ़ते मामलों और राज्यों में बीच-बीच में हो रहे लॉकडाउन के कारण जोखिम की स्थिति बनी हुई है। इसमें कहा गया है कि वृद्धि में तेजी आने वाले महीनों में ग्रामीण भारत से मिलेगी। रिपोर्ट में कहा गया है कि सामान्य मॉनसून के अनुमान के आधार पर कृषि क्षेत्र वित्त वर्ष 2020-21 में भारतीय अर्थव्यवस्था पर महामारी के असर को कम करने में मददगार साबित हो सकता है।

निवेशकों ने एक दिन में कमाए दो लाख करोड़ रुपये

रिपोर्ट में आगे कहा गया है कि समय पर और सक्रियता के साथ इस सेक्टर के लिए लॉकडाउन में छूट देने से रबी फसलों की मड़ाई सुगमता से हो पाई और खरीब की बुवाई भी बढ़ी है। इसमें कहा गया है, ‘‘गेहूं की रिकॉर्ड खरीदी से किसानों को लगभग 75,000 करोड़ रुपये प्राप्त हुए हैं, जिससे ग्रामीण इलाकों में निजी उपभोग को बढ़ावा मिलेगा। सितंबर, 2019 से व्यापार की शर्तें कृषि क्षेत्र के पक्ष में मुड़ी हैं और ग्रामीण मांग बढ़ी है।’’

देखिए, कैसा बनने वाला है अयोध्या रेलवे स्टेशन!देखिए, कैसा बनने वाला है अयोध्या रेलवे स्टेशन!

Source link

Advertisements

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Advertisements

लोकप्रिय

UP News: गर्भ में बेटा है या बेटी, जानने के लिए काट दिया पत्नी का पेट

हाइलाइट्स:उत्तर प्रदेश के बदायूं जिले में दिल दहलाने वाली घटना आई सामने आसपास के लोगों ने महिला को गंभीर हालत में अस्पताल में कराया...

ऑनलाइन शिक्षा से 70% बच्‍चे वंचित, शिक्षक भी नहीं दिखा रहे रुचि Koderma News

Publish Date:Mon, 21 Sep 2020 09:16 AM (IST) कोडरमा, जासं। Online Education कोरोना काल में ऑनलाइन शिक्षा जरूरत बन गई है। प्राइवेट स्कूलों के...