Advertisements
Home बड़ी खबरें भारत सुशांत केस: बिहार सरकार ने सीबीआई जांच की सिफारिश की, सीएम नीतीश...

सुशांत केस: बिहार सरकार ने सीबीआई जांच की सिफारिश की, सीएम नीतीश ने ट्वीट कर दी जानकारी

Advertisements

फिल्म अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत मामले की जांच सीबीआई से कराने के लिए राज्य सरकार ने अपनी सिफारिश भेज दी है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने स्वयं ट्वीट कर यह जानकारी दी।

बता दें कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने आज कहा था कि सुशांत सिंह राजपूत के पिता के. के. सिंह की सहमति प्राप्त हो गयी है और अब राज्य सरकार सुशांत के मौत मामले की सीबीआई से जांच की अनुशंसा आज ही कर देगी। नीतीश ने कहा, आज सुबह ही हमारे डीजीपी (गुप्तेश्वर पांडेय) से उनकी (दिवंगत अभिनेता के पिता की) बातचीत हुई है और उन्होंने अपनी सहमति दे दी है, जिसकी सूचना डीजीपी ने दी तथा तुरंत सीबीआई जांच के लिए अनुशंसा यहां से जा रही है । उसके लिए जो प्रक्रिया है, कर रहे हैं और आज ही मेरे ख्याल से अनुशंसा चली जाएगी।

सुशांत सिंह की कंपनी में पार्टनर शौविक चक्रवर्ती भी ‘लापता’, बिहार से गई SIT खोजने में जुटी 

मुंबई में पटना सिटी एसपी के साथ जो हुआ, वह ठीक नहीं : नीतीश
फिल्म अभिनेता सुशांत सिंह राजूपूत की आत्महत्या प्रकरण की जांच करने गए पटना के सिटी एसपी विनय तिवारी को वहां पर रविवार की रात जबरन क्वारंटाइन किये जाने से बिहार और महाराष्ट्र के बीच विवाद बढ़ गया है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सोमवार को विधानमंडल सत्र में भाग लेने जाने के क्रम में पत्रकारों से बातचीत में उक्त घटना पर नाराजगी जतायी है। 

उन्होंने कहा कि सिटी एसपी को क्वारंटाइन करना ठीक नहीं है। मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारे सरकार की तरफ से डीजीपी ने पूरी सूचना दी है। बिहार के डीजीपी खुद भी वहां के डीजीपी से बात करेंगे। पत्रकारों द्वारा यह पूछे जाने पर कि क्या महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री से आप बात करेंगे, इसपर मुख्यमंत्री ने कहा कि यह राजनीतिक बात नहीं है। सीधे जो कानूनी जिम्मेवारी है, बिहार पुलिस के प्रति, उसे हम निभा रहे हैं। उसी के अनुसार अनुसार काम हो रहा है। विधानमंडल सत्र में भाग लेने जाने के क्रम में मुख्यमंत्री राजधानी वाटिका में वृक्षों को रक्षासूत्र बांधा और वहीं पर पत्रकारों ने उनसे यह सवाल किया। 

सुशांत के पिता और मुंबई पुलिस के बीच व्हाट्सएप पर हुई बातचीत के स्क्रीनशॉट वायरल, जानें क्या हुई थी बात

नीतीश ने कहा, यह सही बात नहीं। वहां का सहयोग मिलना चाहिए वह नहीं मिल रहा था। हमारे डीजीपी वहां फोन करें और वहां कोई फोन नहीं उठाए तो यह कितना आश्चर्यजनक है। यह खुद हमारे डीजीपी ने मुझे जानकारी दी। तो यह स्थिति है जो कि ठीक नहीं है लेकिन यहां प्राथमिकी होने पर बिहार पुलिस का जांच करना कानूनी कर्तव्य बनता है।

यह पूछे जाने पर कि क्या इसको लेकर उनकी महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री से बातचीत हुई, नीतीश ने कहा कि मुख्यमंत्री स्तर पर इस मामले में बात ही नहीं हो सकती है। यह तो कोई राजनीतिक विषय नहीं है । यह जिम्मेदारी पुलिस की है और यहां की पुलिस वहां की पुलिस से बात कर रही थी।



Source link

Advertisements

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Advertisements

लोकप्रिय